हनुमान : एक अद्‌भुत व्यक्तित्व

177607_RBHJ_FINALहनुमान भारतीय चेतना के एक अद्भुत पात्र हैं या यूँ कह लीजिए कि एक विलक्षण नायक हैं। विशाल ग्रंथ ‘रामचरितमानस’ में कई चरित्र हैं। श्रीराम के साथ-साथ उनके पिता दशरथ जी हैं, तो उनके गुरु विश्वामित्र जी और वशिष्ठ मुनि जैसे पुरोहित भी हैं। प्राणों से भी प्रिय भाई लक्ष्मण हैं, तो बिल्कुल न्यारे भाई भरत भी हैं। विभीषण और सुग्रीव जैसे राजा हैं, तो जामवंत और केवट जैसे श्रीराम के प्रति पूर्णतः समर्पित व्यक्तित्व भी हैं। एक से एक चरित्रवान, एक से एक शक्तिवान, एक से एक बुद्धिमान और एक से एक त्यागी ऐसे कितने ही चरित्र हैं।
लेकिन अनोखी बात यह है कि इन सारे चरित्रों में से पूजा के अधिकांश मंदिर तो केवल दो के ही बने हैं- श्रीराम के और हनुमान जी के। चूंकि सीता जी श्रीराम की पत्नी थीं, इसलिए उनके साथ मंदिर में सीता जी भी हैं। अन्यथा दुर्गा और काली माँ जैसे स्वतंत्र मंदिर सीता जी के नहीं हैं। लक्ष्मण जी को भी कहीं-कहीं मंदिरों में स्थान मिला, क्योंकि वे श्रीराम के साथ वन गए थे। हालाँकि लक्ष्मण जी को शेषनाग का अवतार माना गया है, फिर भी भारतीयों ने उनके लिए अलग से मंदिर नहीं बनाए (शायद एकाध अपवाद को छोड़कर)।
यदि अलग से मंदिर बना, तो केवल हनुमान जी का। मंदिर बन गया तो ठीक, नहीं बना तो मड़ई में ही हनुमान जी को बिठा दिया, चौराहे पर छोटे-से मंदिर में ही बिठा दिया। यदि यह भी नहीं सधा तो कोई बात नहीं, पेड़ की छाया ही इनके लिए काफ़ी है। कुछ भी नहीं चाहिए इनके लिए- न तो संगमरमर की मूर्ति और न ही उस मूर्ति को सजाने के लिए गहने और कपड़े आदि। किसी भी पत्थर पर श्रद्धापूर्वक सिंदूर और तेल चढ़ाया और वह हनुमान जी की तरह पूजने योग्य बन गया। हिंदूस्तानी चेतना के लिए सिंदूरी रंग हनुमान जी का पर्याय बन चुका है। आप किसी भी सड़क से यात्रा कीजिए, प्रत्येक किलोमीटर पर आपको एक हनुमान जी बिराजे हुए ज़रूर मिल जाएँगे- कहीं मंदिर में तो कहीं खुले आकाश के नीचे पेड़ की छाया में।
राम जी राजा थे। ज़ाहिर है कि उनके लिए यदि बहुत नहीं, तो भी कम से कम कुछ व्यवस्थाएँ तो करनी ही पड़ेंगी। हिंदुस्तान का ग़रीब व्यक्ति खुद चाहे कुछ भी खा ले या भूखा ही सो जाए, लेकिन यदि कोई मेहमान आ गया है, तो उसके लिए कुछ न कुछ विशेष तो करता ही है। फिर राम जी तो राजा थे। तो अब ऐसा कैसे हो सकता है कि जिस तरह हनुमान जी को जहाँ चाहा बैठा दिया, उसी तरह राजा राम जी को बैठा दिया जाए?
चूँकि हनुमान जी श्रीराम के दास थे, उनके दूत थे, तो उनके साथ इस बात की छूट मिल गई और इस छूट का फ़ायदा यह हुआ कि हनुमान जी जन-जन के देवता बन गए। देवता तो राम जी भी जन-जन के हैं। फ़र्क़ सिर्फ़ इतना है कि राम जी हिंदुस्तान के मानस के देवता हैं। वे भारतीयों के व्यवहार में घुल-मिल गए हैं। लेकिन हनुमान जी के साथ ऐसा नहीं हो सका। काश कि ऐसा हुआ होता! हनुमान जी छा तो गए हिंदुस्तान के ज़र्रे-ज़र्रे पर, लेकिन वे हिंदुस्तानी चेतना को आच्छादित नहीं कर सके। उन्हें मुख्य रूप् से भय का निवारण करने वाला मान लिया गया। मुझे याद है कि बचपन के दिनों में गाँव में जब अंधेरा घिरने के बाद घर पहुँचना होता था, तो थोड़ा-सा खटका हुआ नहीं कि हममें से कई ‘हनुमान-चालीसा’ का पाठ करना शुरू कर देते थे। मजेदार बात यह होती थी कि घर सुरक्षित पहुँच भी जाते थे, क्योंकि सुरक्षित तो पहुँचना था ही। वे लोग भी सुरक्षित घर पहुँच जाते थे जिन्हें ‘हनुमान-चालीसा’ आती ही नहीं थी, लेकिन पाठ करने से इस विश्वास को तो बल मिल ही जाता था कि हनुमान जी ने घर ठीक-ठाक पहुँचा दिया।
हनुमान जी का दूसरा रूप् कार्यसाधक का है, यानि कि वे कार्यों को पूरा करते हैं, मनोकामनाओं को पूरा करते हैं। ‘हनुमान-चालीसा’ और ‘हनुमान जी की आरती’ में उनके इसी रूप का वर्णन है। मुझे लगता है कि हमें यहाँ यह सोचना चाहिए कि क्या कारण है कि ‘रामचरितमानस’ में इतने सारे लोगों के होते हुए भी केवल हनुमान जी के ही मंदिर बने, उन्हें ही स्वतंत्र रूप से इतने बड़े भगवान का दर्ज़ा दिया गया? हमारे पूर्वजों में से जिसने भी इसका विधान किया होगा, वे निश्चित रूप् से बहुत बड़े कर्मयोगी, बहुत बड़े मनोवैज्ञानिक और बहुत महान दूरदृष्टा रहे होंगे। दास अपने आप में भगवान बन जाए, यह कम अद्भुत की बात नहीं है। आखिर आप कितने ऐसे दासों के नाम बता सकते हैं जो खुद में देव बन गए हों और वह भी सामान्य देव नहीं बल्कि जनमानस के सबसे विलक्षण देव। ऐसा करके भारतीय मानस ने हनुमान जी पर न तो कोई उपकार किया है और न ही हम उनका कोई ऋण चुका रहे हैं। बल्कि सच बात यह है कि ऐसा करके हमने उनके व्यक्तित्व, उनकी कार्य-पद्धति और उनकी उपलब्धियों को एक सर्वकालिक मान्यता प्रदार की है। हमने इस बात पर मुहर लगाई है कि जो भी उनके जैसा होगा, जो भी उनके जैसा करेगा, वह भगवत्व को प्राप्त होगा और भगवत्व को प्राप्त हो जाने से बड़ी सफलता इस जीवन में भला और क्या हो सकती है?

पुस्तक सदा सफल हनुमान से
साभार
डाॅ. विजय अग्रवाल

        Whatsapp                       Linkedin

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two + 3 =