विश्व पर्यावरण दिवस – धरती बुखार से तप रही है

642f2ba1-e699-4bfb-8612-45b93bca1095जयपुर (विसंकें)। बुखार अच्छे भले आदमी को बेचैन करने के लिए काफी है। बुखार में तपता इंसान बदहवास सा हो जाता है। एक बुखार आदमी के श्वसन तंत्र, उत्सर्जन तंत्र से लेकर दिमाग तक शरीर के किसी भी हिस्से को नुकसान पहुंचा सकता है। सामान्य मनुष्य का तापमान जैसे ही सैतीस डिग्री सेल्सियस को पार करता है इंसान हवा, पानी और ठंडक पाने के लिए छटपटाने लगता है।

आदमी को बुखार हो तो डॉक्टर माथे पर गीली पट्टी रखने को कहते है, खुली हवा में बैठने को कहते है, यही नहीं उसके खानपान में भी ऐसी चीजें मुहैय्या करायी जाती है जिससे उसके शरीर की गर्मी कम हो।

अगर तमाम उपायों के बावजूद भी इंसान के शरीर के तापमान को कम नहीं किया गया तो उसे मौत के मुंह में जाने से कोई नहीं रोक पाएगा। बुखार जानलेवा होता है।

अबकी बार इस जानलेवा बुखार ने किसी इंसान को नहीं बल्कि इसके जीवन आधार को ही अपने चपेट में ले लिया है। मनुष्य के जीवन का आधार ये धरती बुखार से तप रही है और किसी डॉक्टर, वैज्ञानिक, सरकार किसी में अभी तक ये हैसियत नहीं दिखी है कि इस धरती के तापमान को कम कर पाये।

धरती के बढ़ते तापमान से परेशान सब है, वैज्ञानिक शोध पर शोध कर रहे हैं, दुनिया भर के नेता सालों से ग्रीन हाउस प्रभाव को लेकर बातें कर रहे हैं, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़े-बड़े सम्मेलन हो रहे हैं, अरबों -खरबों रुपये खर्च हो रहे हैं, लेकिन धऱती का तापमान है कि एक डिग्री कम नहीं हो पा रहा है।

मौसम का एक डिग्री सेल्सियस गर्म या ठंडा होना तो सामान्य सी बात है। लेकिन जब बात पूरी धरती के औसत तापमान की हो तो इसमें मामूली सी बढ़ोतरी के भयंकर नतीजे सामने आते हैं।

नासा के मुताबिक धरती का औसत तापमान 0.8 डिग्री सेल्सियस बढ़ चुका है। अब भी अगर नहीं संभले और धरती एक डिग्री और गर्म हुई तो पीने के पानी के लिए तरस जाएंगे लोग।

धरती जब बुखार से तपती है तो समुद्र का पानी उबलने लगता है, रिपोर्टस बताते है कि समुद्र में आक्सीजन कम हो रहा है, ग्लेशिय़र पिघलने लगता है, हरे-भरे इलाके रेगिस्तान में बदल जाते हैं और इस तबाही को ये धरती पिछले कई सालों से भोग रही है, देख रही है। उन्नीस सौ तीस में अमेरिका के नेब्रास्का का हरियाली से भरा इलाका रेत के ढेर में तब्दील हो चुका है। 2005 में भूमध्य रेखा के पास साफ पानी के तमाम स्त्रोत सूख गये।

अब अगर धरती का बुखार नहीं रूका और एक डिग्री और बढ़ गया तो वैज्ञानिकों का अनुमान है कि समुद्र का जलस्तर छह मीटर बढ़ जाएगा। यानी हिंद महासागर में स्थित मालद्वीप जो सागर से सिर्फ डेढ़ मीटर ऊपर है उसके बचने की संभावना तो ना के बराबर दिख रही है।

सवाल ये हैं जब खतरा इतना भयंकर है, दुनिया के देश, वहां की सरकारें और वहां के लोग इतने लापरवाह क्यों है? जाहिर है सबकों लगता है पड़ोसी के घर में बुखार से कोई तपे तो हमें क्या, उसका ख्याल वो रखे, हमारा काम तो सिर्फ हाल-चाल पूछ कर औपचारिकता पूरी करना है। वो ये नहीं जानता कि बुखार कैसा भी हो वो संक्रामक होता है, तेजी से फैलता है पीड़ित के बाद सबसे पहले वो पड़ोसी को चपेट में लेता है। उसी तरह इस धरती को लोगों ने पड़ोसी का बीमार बच्चा समझ कर छोड़ दिया है जबकि धरती पड़ोसी की जिम्मेदारी नहीं है हर इंसान की जिंदगी का हिस्सा है।

तो फिर इसका उपचार क्या है? तो बुखार का बरसों से एक ही घरेलू और कारगर उपाय है और वो है माथे पर गीली पट्टी और ये पट्टी तब तक रखों जब तक तापमान उतर ना जाये।

अब इस धऱती के माथे पर गीली पट्टी रखे कौन? धऱती को खुली हवा कैसे मिले? धरती को प्रदूषण से कैसे बचाये? धरती को भोजन में क्या दे इसके सारे अंगों को ठंडक नसीब हो?

जिस तरह डॉक्टर सिर्फ इलाज की पर्ची लिख सकता है, नर्स/ कंपाउंडर इंजेक्शन लगा सकते हैं मदद कर सकते हैं लेकिन मरीज की तीमारदारी तो चौबीसों घंटे घर वालों को, परिवार वालों को ही करनी पड़ती है तब जाकर उतरता है एक सामान्य आदमी का बुखार।

उसी तरह वैज्ञानिकों ने बता दिया है, पर्यावरण विषेषज्ञों ने, सरकारों ने नर्स और कम्पाउंडर बन कर जन -जन तक जागरूकता भी पहुंचा दी है लेकिन जब तक इस धरती पर ऱहने वाला एक- एक आदमी गीली पट्टी लेकर नहीं निकलेगा धरती का तापमान कम करने की कोशिश नाकाफी है।

धरती के लिए गीली पट्टी का मतलब है पेड़ लगाना, धरती को खुली हवा दिलाने का मतलब है हर तरह से प्रदूषण को रोकना, धरती को ठंडक देना का मतलब है नदियों में गंदा पानी और रसायन जाने से रोकना, धऱती को पौष्टिक भोजन देने से मतलब है उसकी मिट्टी को प्राकृतिक खाद से उपजाऊ बनाना और कृत्रिम खाद और रसायन से बचाना।

और जान लीजिए मौजूदा परिस्थियों में धऱती के बुखार को उतारने ये सिर्फ एक कोशिश है, धरती का बुखार इस कदर बेकाबू हो चुका है कि इस बात की कोई गारंटी नहीं कि बुखार उतर ही जाये कुल मिलाकर मौत के मुहाने पर खड़ी है धरती, बचा सको तो बचा लो।

श्रीधर राव
साभार
ऋतम्

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 + 17 =