Author: Vjaipur

th (2) 0

राखी के धागों से उत्पन्न एकता ने इस आन्दोलन को सफल बनाया

बंग-भंग के विरोध में अद्भुत रक्षाबन्धन (16 अक्तूबर/इतिहास-स्मृति) भारतीय स्वतन्त्रता के इतिहास में बंग भंग विरोधी आन्दोलन का बहुत महत्व है। इसमें न केवल बंगाल, अपितु पूरे भारत के देशभक्त नागरिकों ने एकजुट होकर...

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की तीन दिवसीय बैठक 0

तेजी से बढ़ रहा है संघकार्य, जुड़ रहे हैं युवा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की तीन दिवसीय बैठक के उद्घाटन अवसर पर सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी ने दी जानकारी विसंके जयपुर।  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का कार्य लगातार बढ़ रहा...

नानाजी देशमुख 0

आधुनिक चाणक्य नानाजी देशमुख

आधुनिक चाणक्य नानाजी देशमुख (11 अक्तूबर/जन्म-दिवस) ग्राम कडोली (जिला परभणी, महाराष्ट्र) में 11 अक्तूबर, 1916 (शरद पूर्णिमा) को श्रीमती राजाबाई की गोद में जन्मे चंडिकादास अमृतराव (नानाजी) देशमुख ने भारतीय राजनीति पर अमिट छाप...

श्री वसंतराव भट्ट 0

पूर्वोत्तर के भगीरथ वसंतराव भट्ट

पूर्वोत्तर के भगीरथ वसंतराव भट्ट  (10 अक्तूबर/जन्म-दिवस) बंगाल में संघ के कार्य को दृढ़ आधार देने वाले श्री वसंतराव भट्ट का जन्म 10 अक्तूबर, 1926 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर नगर में हुआ था।...

उत्कलमणि गोपबन्धु दास 0

प्रख्यात समाजसेवी, पत्रकार, अधिवक्ता, शिक्षाविद उत्कलमणि श्री गोपबन्धुदास

उत्कलमणि गोपबन्धु दास (9 अक्तूबर/जन्म-दिवस) उत्कलमणि गोपबन्धु दास का जन्म ग्राम सुवान्दो (जिला पुरी) में नौ अक्तूबर, 1877 को हुआ था। इनके परदादा को उत्कल के गंग शासकों ने जयपुर से बुलाकर अपने यहाँ बसाया...

स्वदेशी जागरण मंच के उत्तर भारत राजस्थान व मध्यप्रदेश संगठक सतीश कुमार 0

जन जन की आवाज बना ’’स्वदेशी स्वीकार, चाईनीज बहिष्कार’’

विसंके जयपुर 9 अक्टूबर। 12 जनवरी से देश भर में चल रहे राष्ट्रीय स्वदेशी सुरक्षा अभियान का बडा कार्यक्रम आगामी 29 अक्टूबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में स्वदेशी महारैली के रूप में आयोजित...

राष्ट्रीय विचार आधारित साहित्य के प्रचार में लगे व्यक्तित्व का सम्मान 0

राष्ट्रीय विचार आधारित साहित्य के प्रचार में लगे व्यक्तित्व का सम्मान

 यों तो श्रीनाथजी राव का नाम किसी पहचान का मोहताज नहीं, क्योंकि भारती भवन में आने वाला कोई भी स्वयंसेवक उनके नाम से अच्छी तरह से परिचित है ज्ञान गंगा प्रकाशन जो कि राष्ट्रीय...

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूज्य सरसंघचालक जी द्वारा विजयदशमी उद्बोधन 0

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूज्य सरसंघचालक जी द्वारा विजयदशमी पर दिए गए उद्बोधन के कुछ अंश

(भाग-१) यह वर्ष विशेष क्यों? १) स्वामी विवेकानंद के प्रसिद्ध शिकागो अभिभाषण का 125 वॉं वर्ष है। २) उनकी शिष्या भगिनी निवेदिता के जन्म का 150 वॉं वर्ष है। ० भगिनी निवेदिता ने स्वधर्म...

प्रथम भारतात्मा अशोक सिंघल वैदिक पुरस्कार – 2017 0

अध्यात्म के बिना भौतिक ज्ञान भी मार्ग से भटक जाएगा – डॉ. मोहन भागवत जी

विसंके जयपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत एक है और अब वो जाग रहा है। भारत उठेगा और अपना स्थान हासिल करेगा, ऐसी आशाएं पल्लवित हो...

गीत के विनम्र स्वर दत्ता जी उनगांवकर 0

गीत के विनम्र स्वर दत्ता जी उनगांवकर

गीत के विनम्र स्वर दत्ता जी उनगांवकर (6 अक्तूबर/पुण्य-तिथि) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखा में देशप्रेम से परिपूर्ण अनेक गीत गाये जाते हैं। उनका उद्देश्य होता है, स्वयंसेवकों को देश एवं समाज के साथ...