Category: आलेख

0

19 फरवरी जन्म दिवस आध्यात्मिक कर्मयोगी: श्री गुरुजी भाग-2

भारत के प्रत्येक जिले में प्रवास करते हुए श्री गुरुजी राष्ट्रीय महत्व की समस्याओं और मुद्दों पर लोगों एवं सरकार को सचेत करते हुए भविष्य में आने वाले संकटों की जानकारी तथा उनका समाधान...

0

आध्यात्मिक कर्मयोगी: श्री गुरुजी-भाग 1

राष्ट्राभिमुख समाज रचना के पुरोधा आदरणीय माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर उपाख्य ‘श्री गुरु जी’ के राष्ट्र समर्पित जीवन के अनेक प्रेरक प्रसंग हमारा मार्ग दर्शन कर सकते हैं. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरुजी ने अपने...

0

सृष्टि का प्रथम राष्ट्र भारत

भारत के उत्थान का आधार है सांस्कृतिक राष्ट्र जीवन नरेंद्र सहगल भारतीय चिंतन में राष्ट्र एक महान जीवमान, स्वयंभू सांस्कृतिक इकाई है, जबकि पश्चिम में राष्ट्र को राज्य मानकर एक राजनीतिक परिकल्पना मान लिया...

0

राष्ट्रीय परिपेक्ष में वर्तमान मकर संक्रांति

14 जनवरी पर विशेष • तमसो मा ज्योतिर्गमय – धारा 370 का अंधकार समाप्त • असतो मा सद्गमय – श्री राम मंदिर का मार्ग प्रशस्त • मृत्योर्मामृतम् गमय – नागरिकता संशोधन अधिनियम, मौत का...

0

अयोध्या – काश! बाबरी ढांचे का सच मुसलमानों को बताया होता ……

अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय आ चुका है. पूरे देश को इस निर्णय का इंतजार था. सर्वोच्च न्यायालय ने रामलला के पक्ष में फैसला दिया है. अयोध्या का मामला अदालत के बाहर...

0

अयोध्या मामला : कितनी ही बार अदालत में झूठे साबित हुए वामपंथी बुद्धिजीवी

जब सच से सामना होता है तो झूठ के पैर कांपने लगते हैं.वामपंथी बुद्धिजीवी न जाने कितनी बार अदालत में झूठे साबित हुए फिर भी वे वहां राम मंदिर न होने का दावा करते...

0

अयोध्या – वामपंथी झूठ की कालिख से रंगे पन्ने और चेहरे

तीन दशकों तक जाली प्रमाण, बोगस बातें और झूठ के पुलिंदों के सहारे मंदिर के अकाट्य प्रमाणों को झुठलाने की कोशिश की गई. अदालत में झूठे साबित होते रहे, पर बाहर वही झूठ दोहराते...

0

विजयादशमी पर विशेष – राष्ट्र जागरण के अग्रिम मोर्चे पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

वर्तमान राजनीतिक परिवर्तन के फलस्वरूप हमारा भारत ‘नए भारत’ के गौरवशाली स्वरूप की और बढ़ रहा है. गत् 1200 वर्षों की परतंत्रता के कालखण्ड में भारत और भारतीयता की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व...

0

कश्मीर : अतीत से आज तक – अंतिम भाग

भावी स्वर्णिम कश्मीर पाकिस्तान प्रेरित मजहबी आतंकवाद को जन्म और संरक्षण देकर कश्मीर को भारत की मुख्य राष्ट्रीय धारा से काटने वाली अलगाववादी व्यवस्था समाप्त हो गई है. भारतीय सविधान के अस्थाई अनुच्छेद 370...

0

कश्मीर : अतीत से आज तक – भाग दो

वीरव्रती दिग्विजयी कश्मीर नरेन्द्र सहगल हम सभी भारतीयों को कश्मीर की गौरवमयी क्षात्र परंपरा और अजय शक्ति पर गर्व है. विश्व में मस्तक ऊंचा करके 4000 वर्षों तक स्वाभिमान पूर्वक स्वतंत्रता का भोग कश्मीर ने अपने बाहुबल...