Category: बलिदान दिवस

VSK-LOGO-720x340 0

19 अप्रैल / बलिदान दिवस – युवा बलिदानी अनन्त कान्हेरे

भारत मां की कोख कभी सपूतों से खाली नहीं रही. ऐसे ही एक सपूत थे – अनन्त लक्ष्मण कान्हेरे. जिन्होंने देश की स्वतन्त्रता के लिए केवल 19 साल की युवावस्था में ही फाँसी के...

VSK-LOGO-720x340 0

18 अप्रैल / बलिदान दिवस – अमर बलिदानी दामोदर हरि चाफेकर

दामोदर हरि चाफेकर उस बलिदानी परिवार के अग्रज थे, जिसके तीनों पुष्पों ने स्वयं को भारत माँ की अस्मिता की रक्षा के लिए बलिदान कर दिया. उनका जन्म 25 जून, 1869 को पुणे में...

1118 0

8 अप्रैल/ बलिदान दिवस – क्रांति की ज्वाला धधकाने वाले क्रांतिवीर मंगल पांडे

देश को अंग्रेजों की परतंत्रता से मुक्त करवाने के लिये 1857 में ज्वाला को धधकाने वाले क्रांतिवीर थे……..मंगल पांडे. अंग्रेजी शासन के विरुद्ध चले लम्बे संग्राम का बिगुल बजाने वाले पहले क्रान्तिवीर मंगल पांडे का...

Gopimohan-Saha 0

01 मार्च / बलिदान दिवस – क्रान्तिवीर गोपीमोहन साहा

पुलिस अधिकारी टेगार्ट ने अपनी रणनीति से बंगाल के क्रान्तिकारी आन्दोलन को काफी नुकसान पहुँचाया. प्रमुख क्रान्तिकारी या तो फाँसी पर चढ़ा दिये गए थे या जेलों में सड़ रहे थे. उनमें से कई...

Screenshot_20180225-135057_1 0

24 फरवरी / बलिदान दिवस – लोकदेवता कल्ला जी राठौड़ का बलिदान

जयपुर (विसंके). राजस्थान में अनेक वीरों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए अपना बलिदान दिया है, जिससे उनकी छवि लोकदेवता के रूप में बन गयी है. कल्ला जी राठौड़ ऐसे ही एक महामानव थे....

Dr Mukharji 0

डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी का बलिदान – 23 जून/बलिदान-दिवस 

छह जुलाई, 1901 को कोलकाता में श्री आशुतोष मुखर्जी एवं योगमाया देवी के घर में जन्मे डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी को दो कारणों से सदा याद किया जाता है। पहला तो यह कि वे योग्य पिता के...

8f7ce8b2-a555-47b1-90ee-7c6138523a27 0

भील बालिका कालीबाई का बलिदान

15 अगस्त 1947 से पूर्व भारत में अंग्रेजों का शासन था। उनकी शह पर अनेक राजे-रजवाड़े भी अपने क्षेत्र की जनता का दमन करते रहते थे। फिर भी स्वाधीनता की ललक सब ओर विद्यमान...

VSK-LOGO 0

स्मृति दिवस बालासाहब देवरस 

●जन्म-11.12.1915.मे नागपुर मे हुआ। ●पिताजी सरकारी कर्मचारी। ●मूल रूप से वे कारजा गांव,बालघाट जिला(MP.)के थे।बाद मे नागपुर आ गये। ●1925.में शाखा प्रारम्भ होने के कुछ समय बाद ही मे जाने लगे ●-1935.मे मौरिस कॉलेज...

Capture 0

राजा दाहरसेन का बलिदान

भारत को लूटने और इस पर कब्जा करने के लिए पश्चिम के रेगिस्तानों से आने वाले मजहबी हमलावरों का वार सबसे पहले सिन्ध की वीरभूमि को ही झेलना पड़ता था। इसी सिन्ध के राजा...

Balbhadra_Singh 0

ओबरी युद्ध के नायक : राजा बलभद्र सिंह चहलारी – 13 जून बलिदान-दिवस

भारत माँ को दासता की बेड़ियों से मुक्त कराने के लिए देश का कोई कोना ऐसा नहीं था, जहाँ छोटे से लेकर बड़े तक, निर्धन से लेकर धनवान तक, व्यापारी से लेकर कर्मचारी और कवि, कलाकार,  साहित्यकार तक...