Category: Personalities

रानी पद्मिनी का जौहर 0

जलती चिताएं उसे मुंह चिढ़ा रही थी (रानी पद्मिनी का जौहर)

चित्तौड़ का पहला जौहर (26 अगस्त/इतिहास-स्मृति) जौहर की गाथाओं से भरे पृष्ठ भारतीय इतिहास की अमूल्य धरोहर हैं। ऐसे अवसर एक नहीं, कई बार आये हैं, जब हिन्दू ललनाओं ने अपनी पवित्रता की रक्षा...

वं. उषाताई चाटी 0

स्मृति शेष : वं. उषाताई चाटी, राष्ट्र सेविका समिती की तृतीय प्रमुख संचालिका

विसंके जयपुर। वं. उषाताई मूलतः भंडारा (विदर्भ) निवासी फणसे कुल की कन्या है। आपका जन्म ३१ अगस्त १९२७, तिथी भाद्रपद शुद्ध चतुर्थी याने गणेश चतुर्थी के दिन हुआ। बुद्धिदाता और गणों का नायकत्व करनेवाले...

एक साधु ने जीजामाता के चरणों में जब माथा टेका, तो माता की आँखें भर आयीं 0

एक साधु ने जीजामाता के चरणों में जब माथा टेका, तो माता की आँखें भर आयीं (17 अगस्त/इतिहास-स्मृति)

और वे निकल भागे औरंगजेब की जेल से शिवाजी और संभाजी  …… मिर्जा राजा जयसिंह के आग्रह पर शिवाजी ने आगरा में औरंगजेब से मिलने का निश्चय कर लिया। उनकी योजना थी कि औरंगजेब...

अमर बलिदानी खुदीराम बोस 0

अमर बलिदानी खुदीराम बोस (11 अगस्त/बलिदान-दिवस )

भारतीय स्वतन्त्रता के इतिहास में अनेक कम आयु के वीरों ने भी अपने प्राणों की आहुति दी है। उनमें खुदीराम बोस का नाम स्वर्णाक्षरों में लिखा जाता है। उन दिनों अनेक अंग्रेज अधिकारी भारतीयों...

अमर बलिदानी श्रीदेव सुमन 0

जननी-जन्मभूमि के प्रति अपार बलिदानी भावना रखने वाले तरुण तपस्वी

अमर बलिदानी श्रीदेव सुमन (25 जुलाई/बलिदान-दिवस) 1947 से पूर्व भारत में राजे-रजवाड़ों का बोलबाला था। कई जगह जनता को अंग्रेजों के साथ उन राजाओं के अत्याचार भी सहने पड़ते थे। श्रीदेव ‘सुमन’ की जन्मभूमि...

मांगणियार गायिका रुकमा देवी 0

थार की “लता” रुकमा देवी मांगणियार (21 जुलाई/पुण्य-तिथि)

राजस्थान के रेगिस्तानों में बसी मांगणियार जाति को निर्धन एवं अविकसित होने के कारण पिछड़ा एवं दलित माना जाता है। इसके बाद भी वहां के लोक कलाकारों ने अपने गायन से विश्व में अपना...

जलियांवाला के प्रतिशोधी सरदार उधम सिंह 0

आज़ादी की लड़ाई में पंजाब के क्रान्तिकारी सरदार उधम सिंह (19 जुलाई/इतिहास-स्मृति)

जलियांवाला के प्रतिशोधी ऊधमसिंह ऊधमसिंह का जन्म ग्राम सुनाम ( जिला संगरूर, पंजाब) में 26 दिसम्बर, 1899 को सरदार टहलसिंह के घर में हुआ था। मात्र दो वर्ष की अवस्था में ही इनकी माँ...

jhalawar 0

अखंड भारत के समर्थक अब्दुल हमीद कैसर ‘लखपति’ (18 जुलाई/पुण्य-तिथि)

  अखंड भारत के समर्थक अब्दुल हमीद कैसर का जन्म पांच मई, 1929 को राजस्थान मेंजिले के एक छोटे कस्बे बकानी में हुआ था। उनके जागीरदार पिता कोटा रियासत में तहसीलदार थे। 1954 में...

श्री जनमंच गौरीशंकर 0

आतंकियों से उनकी ही भाषा में बात कर उन्हें हटने को मजबूर करने वाले जे.गौरीशंकर (17 जुलाई/पुण्य-तिथि )

आंध्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और अन्य हिन्दू संगठनों के मार्ग की सबसे बड़ी बाधा नक्सलवादी कम्युनिस्ट रहे हैं। इन हिंसक और विदेश प्रेरित आतंकियों से उनकी ही भाषा में बात कर उन्हें हटने...