Category: Uncategorized

प्रथम विश्व युद्ध और महाविप्लव की तैयारी 0

प्रथम विश्व युद्ध और महाविप्लव की तैयारी

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम – 4 नेशनल मेडिकल कॉलेज कलकत्ता से डॉक्टरी की डिग्री और क्रांतिकारी संगठन अनुशीलन समिति में सक्रिय रहकर क्रांति का विधिवत प्रशिक्षण लेकर डॉक्टर हेडगेवार नागपुर लौट आए. स्थान-स्थान...

वे पन्द्रह दिन… / 04 अगस्त, 1947 0

वे पन्द्रह दिन… / 04 अगस्त, 1947

आज चार अगस्त… सोमवार. दिल्ली में वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन की दिनचर्या, रोज के मुकाबले जरा जल्दी प्रारम्भ हुई. दिल्ली का वातावरण उमस भरा था, बादल घिरे हुए थे, लेकिन बारिश नहीं हो रही थी....

डॉक्टरी की शिक्षा और क्रांति का प्रशिक्षण 0

डॉक्टरी की शिक्षा और क्रांति का प्रशिक्षण

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम – 3 भारत को ब्रिटिश साम्राज्यवाद के क्रूर पंजे से मुक्त करवाने के लिए समस्त भारत में एक संगठित सशस्त्र क्रांति का आधार तैयार करने हेतु केशवराव हेडगेवार...

वे पंद्रह दिन… / 03 अगस्त, 1947 0

वे पंद्रह दिन… / 03 अगस्त, 1947

आज के दिन गांधीजी की महाराजा हरिसिंह से भेंट होना तय थी. इस सन्दर्भ का एक औपचारिक पत्र कश्मीर रियासत के दीवान, रामचंद्र काक ने गांधीजी के श्रीनगर में आगमन वाले दिन ही दे...

जब अंग्रेजों ने केशव के भाषणों पर प्रतिबंध लगाया….. 0

जब अंग्रेजों ने केशव के भाषणों पर प्रतिबंध लगाया…..

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक डॉ. केशवराव बलिराम हेडगेवार जन्मजात स्वतंत्रता सेनानी थे. ‘हिन्दवी स्वराज’ के संस्थापक छत्रपति शिवाजी, खालसा पंथ का सृजन करने वाले दशमेशपिता श्रीगुरु गोविंदसिंह और आर्यसमाज के संगठक स्वामी दयानन्द की भांति डॉ....

वे पन्द्रह दिन…/ 02 अगस्त 1947 0

वे पन्द्रह दिन…/ 02 अगस्त 1947

17, यॉर्क रोड…. इस पते पर स्थित मकान, अब केवल दिल्ली के निवासियों के लिए ही नहीं, पूरे भारत देश के लिए महत्त्वपूर्ण बन चुका था. असल में यह बंगला पिछले कुछ वर्षों से...

वे पन्द्रह दिन… / 01 अगस्त, 1947 0

वे पन्द्रह दिन… / 01 अगस्त, 1947

शुक्रवार, 01 अगस्त 1947. यह दिन अचानक ही महत्त्वपूर्ण बन गया. इस दिन जम्मू कश्मीर के सम्बन्ध में दो प्रमुख घटनाएं घटीं, जो आगे चलकर बहुत महत्त्वपूर्ण सिद्ध होने वाली थीं. इन दोनों घटनाओं...

हम सर्वोत्तम पुरूषार्थ प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहे हैं 0

हम सर्वोत्तम पुरूषार्थ प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहे हैं

व्यक्ति, परिवार (कुटुम्ब), समाज मिलकर एक विशाल इकाई बनती है, ‘वसुधैव कुटुम्बकम’. दीनदयाल शोध संस्थान वसुधैव कुटुम्बकम की भावना से ही अपने प्रकल्पों के माध्यम से सतत प्रयत्नशील है. संस्थान की प्रबन्ध समिति एवं...

युवाओं ने ठाना है, केशवपुरा को आदर्श बनाना है 0

युवाओं ने ठाना है, केशवपुरा को आदर्श बनाना है

-केशवपुरा आदर्श ग्राम में युवाओं की बैठक संपन्न -अब हर अमावस्या को सामूहिक श्रमसाधना और द्वितीय शनिवार को सत्संग (विसंकें) जयपुर 22 जुलाई. रा स्व संघ की प्रेरणा से गठित राजस्थान बाढ़ पीडित एवं...

पौधों की बीस हजार प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर – डॉ. भगवती प्रकाश जी 0

पौधों की बीस हजार प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर – डॉ. भगवती प्रकाश जी

जयपुर (विसंकें). “अपना संस्थान” की पर्यावरण विशेषज्ञों की तृतीय संगोष्ठी 05 जुलाई 2018 को भीलवाड़ा के एमएलवी टेक्सटाइल व इंजीनियरिंग कॉलेज में सम्पन्न हुई. जिसमें राजस्थान के 24 स्थानों के 150 प्रतिभागियों ने भाग...