Category: vichar

babasaheb_ambedkar_thumb 0

सामाजिक समरसता के समर्थक थे डाॅ.अंबेडकर

हिन्दू तत्व पुरोधा डाॅ.भीमराव अंबेडकर के जन्म दिवस पर विशेष वास्तव में डाॅ.भीमराव अंबेडकर हिन्दू तत्व के पुरोधा, सामाजिक समरसता के अग्रदूत, प्रख्यात समाज-सुधारक, विधिवेता एवं भारतीय संविधान के मुख्य शिल्पकार थे। डाॅ. अंबेडकर...

13286726643_35eb39b642_b 0

जानिए कहां से आया ‘भारत माता की जय’?

“भारत माता की जय’ के नारे पर लगातार विवादास्पद बयान रहे हैं। जानते हैं कभी आजादी की लड़ाई में जोश भर देने वाला यह जयघोष आया कहां से था-पहली बार 1873 में आया था...

mahatma-jyotiba-phule-710x360 0

समरस समाज के पुरोधा थे महात्मा ज्योतिबा फुले

(महात्मा ज्योतिबा फुले के जन्म दिवस पर विशेष) महात्मा ज्योतिबा फुले बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। उनकी गिनती देश के प्रख्यात समाज सुधारक, प्रखर विचारक, लेखक एवं समता के संदेशवाहकों में होती है। 11...

मैं ‘भारत माता की जय‘ कहता रहूंगा 0

मैं ‘भारत माता की जय‘ कहता रहूंगा

‘भारत माता की जय‘ कहना है अथवा नहीं, इसको लेकर ओवैसी द्वारा दिखाया गया जनुकीय उलझाव और  देश के मानचिन्ह सम्मान के लिए नहीं अपितु मखौल उड़ाने के लिए है, इस तरह का ज्ञान...

संघ के बारे में श्री तवलीन सिंह के विचार 0

संघ के बारे में श्री तवलीन सिंह के विचार

तवलीन सिंह जी का स्तम्भ (कॉलम) इंडियन एक्सप्रेस 20,मार्च ,2016 हिंदुत्व और जिहाद दोनों की तुलनात्मक विश्लेषण करते करते संघ के ऊपर आगयी।वैसे कोई भी popular organisation की जिम्मेदारी अनेक विधि से मूल्यांकित की...