अयोध्या में हर हाल में मंदिर का निर्माण होना चाहिएः वसीम रिजवी

अयोध्या हिंदुओं की आस्था की नगरी है। वहां हर हाल में मंदिर का निर्माण होना चाहिए। मस्जिद के लिए दूसरी जगह मिले जो अयोध्या से दूर हो। सुप्रीम कोर्ट में हमारी अपील दर्ज है। हम 50वें नंबर पर तो सुन्नी बोर्ड 34वें नंबर पर है। हमारी कोशिश है कि पहले यह तय हो कि अयोध्या की मस्जिद बाबर ने बनवाई थी या मीरबाकी ने। यदि मीरबाकी ने बनवाया था तो हक हमारा बनता है। ये विचार यूपी के संभल में शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने व्यक्त किए। वसीम रिजवी कहा कि देश में ऐसी नौ मस्जिदें हैं जो विवादित हैं। उत्तर प्रदेश में ऐसी मस्जिदों की संख्या चार, दिल्ली में एक, गुजरात में दो हैं। इन सभी में नमाज नहीं पढ़नी चाहिए। क्योंकि, ये जगह विवादित हैं। विवादित जगह पर नमाज पढ़ने के बाद यह कुबूल नहीं होती। ऐसे में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को चाहिए कि वह इन जगहों पर नमाज के लिए मना करें। हम अमन के पक्षधर हैं। हम दूसरे की जमीन पर मस्जिद नहीं बनवा सकते हैं। यदि लखनऊ में मस्जिद अमन बनती है तो इससे बेहतर कोई और बात नहीं हो सकती है। हलाला पर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि इसको कभी इस्लाम में मान्यता नहीं दी गई है। कानून अपना काम करे। शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के याकूब अब्बास के बयान मस्जिद अयोध्या में थी और वहां बने पर बोले कि मस्जिद कहां बनेगी यह तय करने का अधिकार वक्फ बोर्ड का है न कि पर्सनल लॉ का। उनका काम जो है वह करें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight − 7 =