आत्म विस्मृति को दूर कर राष्ट्र की सुप्त आत्मा को जगाना होगा – अरुण कुमार जी

पत्रकारों को विश्वसनीयता बनाए रखने की आवश्यकता – सुमित्रा महाजन जी

विसंके जयपुर। राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के अखिल भारतीय सह सम्पर्क प्रमुख अरुण कुमार जी ने कहा कि आत्म विस्मृति को दूर भगाकर राष्ट्र की सोयी हुई आत्मा को जगाना होगा। ये हमारा दुर्भाग्य रहा है कि हम पश्चिम की दृष्टि से देखने–सोचने लगे हैं। बीच के काल-खंड में नारद जी हम सभी से विस्मृत हो गए थे। लेकिन खुशी इस बात की है, कि इद्रंप्रस्थ विश्व संवाद केन्द्र पिछले 10 सालों से पत्रकारों के लिए “नारद पत्रकार सम्मान समारोह” आयोजित कर रहा है। उन्होंने कहा, यह देश का दुर्भाग्य है कि राष्ट्र और राष्ट्रवाद को लेकर कुछ तत्वों द्वारा बहस खड़ी की जा रही है। ऐसे में जरूरत है कि देवऋषि नारद जी के आदर्शों को पत्रकारिता जगत समझे। ताकि, कैसे नारद जी सभी के बीच संवाद स्थापित करके भी सामाजिक सदभाव को बनाये रखते थे। अरुण जी इंद्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र द्वारा नई दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित नारद जयंती एवं पत्रकार सम्मान समारोह में मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन जी ने कहा कि पत्रकारों को अपनी विश्वसनीयता बनाए रखनी होगी। इसके लिए उन्हें अपने विषयों का गहन अध्ययन करना चाहिए और निष्पक्ष पत्रकारिता करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि 1947 के बाद जितने युद्ध हुए हैं, उससे ज्यादे हमारे सैनिकों की जानें सिर्फ कश्मीर घाटी में गई हैं। ऐसा क्यों? हम सब ने सोचा है क्या इस पर? इसलिए, मैं आग्रह करती हूं आप सभी पत्रकारों से कि आप सब इस विषय पर सोचें और उस वास्तविकता को समाज के सामने मीडिया के माध्यम से बताएं, जो इसके लिए जिम्मेदार है। हमारा लक्ष्य केवल भारत भर से संवाद करना नहीं है, हमें तो विश्वभर से संवाद करना है। क्योंकि, तभी तो हमारा समाज ऊपर उठेगा और विश्व की कल्पना करते हुए, अपने कल्याण के साथ-साथ विश्व का भी कल्याण करेगा। विश्व भर से संवाद करने की सीख हमें देवऋषि नारद जी से सीखनी चाहिए।

कार्यक्रम के अध्यक्ष व रक्षा विशेषज्ञ मारूफ़ रज़ा जी ने कहा कि पत्रकारों को अपना काम करते समय देश हित को ध्यान में रखना होगा। देश पर कई किस्म के आंतरिक व बाहरी खतरे मंडरा रहे हैं, ऐसे में पत्रकारों की भूमिका अहम हो जाती है। कार्यक्रम में इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र की वार्षिक पत्रिका “दिशा स्मारिका-2017” का विमोचन भी किया गया। देश को सही दिशा देने के लेखों से सुसज्जित इस स्मारिका में राष्ट्रवादी पत्रकारों व समाज जीवन से जुड़े प्रतिष्ठित नागरिकों ने अपना योगदान दिया है।

इस अवसर पर इंद्रप्रस्थ विश्व संवाद केन्द्र द्वारा विभिन्न श्रेणियों में 12 पत्रकारों को सम्मानित किया गया।

आभार नई दिल्ली (इंविसंकें)

इंद्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र द्वारा आयोजित नारद जयंती एवं पत्रकार सम्मान समारोह

इंद्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र द्वारा आयोजित नारद जयंती एवं पत्रकार सम्मान समारोह

Nand-Kishor-Trikha-ji Group-Photo-Narad-Samman-2017

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × four =