जयपुर शहर के वैशानी नगर स्थित प्रेम प्रकाश आश्रम में मनाया गया महाशिवरात्रि महोत्सव

जयपुर (विसंकें)। वैशाली नगर स्थित प्रेम प्रकाश आश्रम में सोमवार 4 मार्च, 2019 को भव्य महाशिवरात्रि महोत्सव हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया। आश्रम के संत ओम प्रकाश शास्त्री ने बताया कि स्वामी ब्रह्मानन्द जी महाराज के आशीर्वाद व प्रेरणा से स्वामी बसन्तराम सेवा ट्रस्ट की ओर से मनाये गये इस महाशिवरात्रि महोत्सव के अंतर्गत आश्रम प्रांगण में सजाई गई झांकियों का दर्शन करने के लिये सुबह से ही हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं का आवागमन होता रहा जो निरन्तर रात्रि तक अनवरत जारी रहा।

FormatFactoryDSC_9443

सुबह से ही आश्रम में शिवरात्रि के उपलक्ष में कार्यक्रमों का दौर प्रारम्भ हुआ जिसके अन्तर्गत श्रद्धालुओं ने शिव भगवान के समक्ष पुष्प, बेल पत्र, जल आदि द्वारा पूजा अर्चना की और समस्त कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। राजस्थान सरकार के पूर्व शिक्षा राज्य मंत्री श्री वासुदेव देवनानी एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने भी भगवान शिव के अद्भुत स्वरूप पर अभिषेक कर आशीर्वाद लिया।

अजमेर शहर स्थित आश्रम परिसर में प्रथम बार सजाई गयीं कुछ विशेष झांकियाँ  : 

WhatsApp Image 2019-03-04 at 5.06.50 PM

“नंदी को स्पर्श करने से शिवलिंग पर दुग्धाभिषेक“, “बिल्व-पत्र को स्पर्श करने से शिवलिंग पर ॐ के दर्शन“, आदि झांकियों का अजमेर में पहली बार प्रदर्शन किया गया। जिनको श्रद्धालुओं ने काफी सराहा। अन्य झांकियों में “द्वादश ज्योर्तिंर्लंग दर्शन“, “हिमालय पर्वत पर विराजमान शिव परिवार“, “शिव भगवान का गंगा माता को अपनी जटाओं में धारण करना“ (गंगा अवतरण), “पंचमुखी पवनपुत्र हनुमान“, “चतुर्भुजरूप गंगाधर महा शिव शम्भू“, शेरावाली माता का दरबार भी सजाया गया। इस तरह कई अन्य सुन्दर झांकियां भी सजाई गई थी।

देहली गेट स्थित प्रेम प्रकाश आश्रम में शिवरात्रि की सायंकालीन सत्संग सभा में  शिवरात्रि की मान्यता के बारे में बताते हुए  सन्त ओम प्रकाश शास्त्री ने कहा कि सृष्टि के प्रारम्भ में इसी दिन मध्य-रात्रि भगवान शंकर का ब्रह्म से रूद्र के रूप में अवतरण हुआ था। तब से ही इस दिन को महाशिवरात्रि से जाना जाता है। शास्त्रों में शिवरात्रि जागरण का विशेष महत्व बताया गया है। जिससे पुण्य की प्राप्ति होती है।

रात्रि 9 बजे से जागरण एवं भजन संध्या का आयोजन किया गया। जिसमें सुप्रसिद्ध कलाकारों व संत मण्डल ने शिवनाम संकीर्तन एवं भजन प्रस्तुत कर उपस्थित श्रद्धालुगणों को मन्त्रमुग्ध कर दिया।

रात्रि जागरण में चारों प्रहर श्रद्धालुओं द्वारा दूध,दही,शहद,जल व फलादि द्वारा शास्त्र विधि अनुसार विद्वान पण्डितों के निर्देशन में शिवजी का रूद्राभिषेक किया गया। साथ ही हवन, भस्म आरती और भगवान शिव को तरह-तरह के व्यंजनों द्वारा छप्पन भोग लगाए गए। स्वामी ब्रह्मानन्द शास्त्री द्वारा श्रद्धालुओं को शुभाषीर्वाद प्रदान किया गया जिसमें उन्होनें शिवजी की सरलता के बारे में बताया कि वो धतूरे, बेल पत्र व जलाभिषेक आदि से सहज ही प्रसन्न हो जाते हैं बस अगाध श्रृद्धा का होना आवश्यक  है। जागरण में बढ़ी संख्या में श्रृद्धालु जन उपस्थित थे एवं जागरण का लाभ लिया। अन्त में सभी उपस्थित श्रृद्धालुओं को खीर प्रसाद का वितरण किया गया।

संत ओमप्रकाश ने महोत्सव में पधारे सभी संतों, श्रद्धालुओं व सहयोग प्रदान करने वालों का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में प्रेम प्रकाश सेवादारी मण्डल के सदस्य झामनदास भगतानी, हशू आसवानी, निरंजन जोशी, पवन भाटिया, तारा, राधा विधानी, सरिता, दीपा लालवानी, वर्षा टिलवानी, गौरांगी तीर्थानी, गीता मोदयानी, काजल जेठवानी आदि सेवादारियों का सहयोग सराहनीय रहा।

आश्रम के प्रवक्ता खानचन्द मेंघानी ने बताया कि मंगलवार को भी प्रातः 8 बजे से 1 बजे तक एवं सायं 4 से 9 बजे तक श्रद्धालुगण झाकियों का दर्शन कर सकेंगें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × five =