पत्रकार समाज का दर्पण हैं – श्री गोपाल शर्मा

जयपुर (विसंकें)। विश्व संवाद केंद्र जयपुर की सीकर इकाई की ओर से नारद जयंती एवं पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें चूरू, सीकर, झुंझुनू तीनों जिलों के 60 से अधिक पत्रकारों ने तथा विभिन्न गणमान्य व्यक्तियों ने भाग लिया।
कुल उपस्थिति 150 रही।
कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन से हुई।
कार्यक्रम के मुख्य वक्ता महानगर टाइम्स के संपादक एवं वरिष्ठ पत्रकार श्री गोपाल शर्मा थे। उन्होंने कहा कि पत्रकार का काम सत्य का अन्वेषण करना है नारद जी के बारे में गलत धारणा क्यों बने क्योंकि नारद जी को मोह के वश अभिमान हो गया था जब जब मोह के कारण पत्रकारों को अभिमान होता है उनके बारे में भी गलत धारणाएं बनती है।
श्री शर्मा ने कहा भारत से बाहर जाने पर देखने में ध्यान में आता है कि विश्व का भारतीयों से बात करने का भारतीयों को देखने का उनके साथ व्यवहार करने का नजरिया बदला है।
इस बदलाव में पत्रकारों की बहुत बड़ी भूमिका है।
पत्रकार स्वभाव से समालोचक होता है लेकिन कुछ पत्रकारों ने आलोचना या निंदा को ही अपना कर्तव्य मान लिया है।
अधिकतर राजनेताओं को समाज में आलोचनाओं का सामना करना पड़ता है लेकिन शर्मा ने पत्रकारों से आग्रह करते हुए कहा कि हमें ध्यान करना चाहिए कि एक छोटे से छोटा राजनेता भी अपने देश के लिए कितना परिश्रम करता है और उसका परिश्रम हमारे लिए अनुकरणीय होना चाहिए।
अधिकतर देखा जाता है कि पत्रकारिता पूरी की पूरी राजनीति पर केंद्रित हो जाती है या तो किसी दल के पक्ष में या फिर विपक्ष में लेकिन हमें दल के पक्ष और विपक्ष को न सोचकर कर समाज के पक्ष का चिंतन करना होगा। हमारी पत्रकारिता समाज के पक्ष में हो। पत्रकारिता का मुख्य कार्य कार्यपालिका न्यायपालिका विधायिका तथा जनता के बीच के अंतर को पाटने का है।
उन्होंने कहा कि पत्रकार जितने परिश्रम से अपने जान की बाजी लगाकर समाज के लिए कार्य करता है वह एक मोर्चे पर लड़ रहे सेना के जवान से कतई कम नहीं है पत्रकारिता आसान काम नहीं है भगत सिंह गांधी जी बाल गंगाधर तिलक मदन मोहन मालवीय सबके उदाहरण देते हुए श्री शर्मा ने कहा कि वह सब पत्रकारिता से जुड़े रहे हैं।
श्री शर्मा ने कहा कि किस समय किस तथ्य को किस तरह उजागर किया जाए कि समाज की एकता को बल मिले गरीब की पीड़ा दूर हो देश का सर्वांगीण उत्थान हो यही आज का युग धर्म है।
उन्होंने कहा कि शेखावाटी का आदमी यदि किसी कार्य को ठान कर खड़ा हो जाता है तो फिर दुनिया की कोई ताकत उसे झुका नहीं सकती यह इस मिट्टी की विशेषता है।
सीकर विभाग के प्रचार प्रमुख श्री सुभाष जी सोनगरा ने कार्यक्रम की प्रस्तावना रखते हुए विश्व संवाद केंद्र के विभिन्न क्रियाकलापों का संक्षिप्त परिचय दिया एवं बताया कि पिछले 5 वर्षों से लगातार विश्व संवाद केंद्र नारद जयंती का आयोजन कर पत्रकारों को सम्मानित करता आ रहा है।
उन्होंने राष्ट्रवादी पत्रकारिता में विश्व संवाद केंद्र की भूमिका के बारे में सभी को अवगत करवाते हुए बताया कि विश्व संवाद केंद्र द्वारा समय-समय पर सोशल मीडिया कॉन्क्लेव, नागरिक पत्रकारिता पर गोष्ठियां, समसामयिक घटनाओं पर पैनल चर्चा आदि आयोजित किए जाते हैं।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री कमल जी माथुर ने कहा कि पत्रकारिता की शुरुआत एक मिशन के रूप में हुई थी जो समय के उतार-चढ़ाव देखते हुए आज एक प्रोफेशन का स्वरूप ले चुकी है।
माथुर ने कहा कि लोकतंत्र के चौथे स्तंभ और एक पवित्र मिशन पत्रकारिता को भी आज स्वयं में आत्ममंथन की जरूरत महसूस हो रही है। उन्होंने पत्रकारों का आव्हान किया कि पत्रकारिता को समाज की अपेक्षाओं पर खरा उतरना होगा।
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्री पूर्णमल जी ने कहा कि पत्रकार समाज का दर्पण होता है। वह अपनी लेखनी से समाज की दशा और दिशा बदलने की ताकत रखता है।
फतेहपुर शेखावाटी स्थित बुद्ध गिरी जी की मंडी के पीठाधीश्वर पूज्य दिनेशगिरी जी महाराज ने कहा कि सनातन परंपरा में विभिन्न महापुरुषों ने अमूल्य योगदान दिया है नारद जी ने भी प्रमाणिक सूचनाओं का आदान प्रदान करने का कार्य किया है जिसके कारण उन्हें विश्व का प्रथम पत्रकार माना जाता है हालांकि न जाने क्यों कुछ लोगों के मन में नारद जी की गलत छवि  बनी हुई है जो कि सही नहीं है।
पूज्य महाराज जी ने कहा कि मीडिया ही अपने देश की छवि विश्व के सामने प्रस्तुत करता है।
देश को बदलने के लिए विचार का बदलना आवश्यक है और विचार बदलने का महत्वपूर्ण कार्य मीडिया करता है।
यदि मीडिया को समाज के भीतर कोई कमी कोई बुराई नजर आती है तो उसका प्रकटीकरण इस उद्देश्य के साथ होना चाहिए कि वह बुराई दूर हो सके ना कि उसका अतिरंजित वर्णन होना चाहिए मीडिया को निष्पक्ष रहकर कार्य करना चाहिए।
विशिष्ट पत्रकारों के सम्मान की कड़ी में लक्ष्मणगढ़ के श्री अशोक जी पारीक एवं चूरू के श्री माधव प्रसाद जी शर्मा को नारद पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम के अध्यक्ष पशुपति कुमार जी शर्मा ने कहा कि पत्रकारों का प्रतिदिन आकलन होता है हमारे एक-एक शब्द को लेकर हर छोटा-बड़ा व्यक्ति एक धारणा बनाता है प्रत्येक पत्रकार अपनी कलम से कुछ न कुछ रुप से समाज की सेवा करता है।
उन्होंने कहा कि आज के युग में पत्रकारिता की जिम्मेवारी और पत्रकारिता की प्रासंगिकता बहुत ज्यादा बढ़ गई है क्योंकि पत्रकार समाज की दिशा तय करने की ताकत रखता है।
तत्पश्चात सभी आगंतुक पत्रकारों का सीएलसी परिवार के द्वारा शॉल भेंट कर सम्मान किया गया एवं जिला प्रचार प्रमुख श्री राजेश कंदोई द्वारा सभी आगंतुकों का आभार प्रकट किया गया।
कार्यक्रम श्री बुद्ध गिरी जी की मंडी के पीठाधीश्वर पूज्य संत दिनेश गिरी जी महाराज के पावन सानिध्य में न्यू सीएलसी सेंटर सीकर में संपन्न हुआ।
image1.JPG
image2.JPG

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × one =