विज्ञान महोत्सव का समापन, प्रतिभाओं का हुआ सम्मान

जयपुर 28 फरवरी (विसंके)। जयपुर के मालवीय राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान स्थित विवेकानंद लेक्चर थियेटर कॉम्पलैक्स (वी.एल.टी.सी.),में विज्ञान भारती राजस्थान और एम.एन.आई.टी. के संयुक्त तत्वाधान में तीन दिवसीय राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव का आज समापन हुआ। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर तीन दिन के इस आयोजन में राजस्थान के 135 स्थानों के विद्यार्थीयों ने विभिन्न गतिविधियों में भाग लिया।

28.2 (1) 28.2 (6) 28.2 (3) 28.2 (4)वी.एल.टी.सी. सभागार में आयोजित समारोह में विज्ञान भारती राजस्थान के महासचिव डॉ. मघेन्द्र शर्मा ने बताया कि इस विज्ञान महोत्स में ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के विद्यार्थीयों का एक साथ सहभाग रहा है। विज्ञान भारती का प्रयास है कि भारत के गांव गांव में विज्ञान की खोज हो और भारत में नये विज्ञान का उदय हो। यह आयोजन विज्ञान भारती की राष्ट्रवादी सोच की शुरूआत है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राजस्थान सरकार के सहकारीता मंत्री अरूण चतुर्वेदी ने कहा कि शिक्षक के पास वह ताकत है, जिससे वह शिक्षा के माध्यम से शिवाजी, महाराणा प्रताप, डॉ. कलाम, डॉ. रमण जैसी शखसियतो का निर्माण कर सकते है। उन्होनें कहा कि भारत में विज्ञान पौराणिक काल से है रमायण और महाभारत में इस का वर्णन हमें सुनने और पढने को मिलता है। भारत में शल्य चिकित्सा भी अति प्राचीन है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे एम.एन.आई.टी. के निदेशक डॉ. उदय कुमार यागारेट्टी ने कहा इस विज्ञान महोत्सव के माध्यम से इस परिसर का गृहप्रवेश हुआ है। इस आयोजन की महक से यह परिसर सदैव प्रफूल्लित रहेगा।

इनका हुआ सम्मान
विज्ञान क्षेत्र में विशेष कार्य हेतु लाईफ टाइम अचिवमेन्ट अवार्ड इलेक्ट्रीक्ल इंजीनियरींग के लिए एम.एन.आई.टी. के पूर्व निदेशक प्रो. एस.सी.अग्रवाल, को मौसम विज्ञान के लिए प्रो. एन.एस. राठौड को, भू-विज्ञान के लिए प्रो. एच.एस.शर्मा को, वनस्पति विज्ञान के लिए प्रो. अश्विनी कुमार को, भौतिक विज्ञान के लिए प्रो.वी.के.विजय को सम्मानित किया गया। इनके साथ सुबोध कॉलेज की डॉ. मधु श्रीवास्तव, वास्ट ऐजूकेशन अब्रोड से युक्रेन के डॉ. प्रमोद पाणिग्रही, आर्य कॉलेज के अनुराग अग्रवाल, परिष्कार कॉलेज के राघव प्रकारश का भी सम्मान किया गया।

यह रहे आकर्षण का केन्द्र
राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर आयोजित इस विज्ञान महोत्सव में गांवों में विज्ञान और कबाड से जुगाड आकर्षण का केन्द्र रहे। इस के साथ विभिन्न संस्थानों के विद्यार्थीयों द्वारा तैयार मॉडल्स भारतीय तकनीक का अनुठा प्रदर्शन प्रस्तुत कर रहे थे।

विभिन्न प्रतियोगिताआें के लिए पुरस्कार
इस आयोजन में तीन श्रेणीयों में रोल प्ले, विज्ञान नाटक, विज्ञान प्रश्नोत्तरी, चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। जिसमें विजेताओं को स्मृति चिन्ह् एवं प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। उत्कृष्ट मॉडल के लिए भी प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार प्रदान किये गये।

विवेकानंद लेक्चर थियेटर कॉम्पलैक्स (वी.एल.टी.सी.), में आयोजित इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय निर्माण संगठन और विज्ञान शिक्षक कार्यशाला का आयोजन भी अन्तिम दिन हुआ।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 − eight =