विदर्भ प्रांत का प्रवासी कार्यकर्ताओं का तीन दिवसीय शिविर आज से

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्य का आधार कहे जाने वाले प्रवासी कार्यकर्ताओं का तीन दिवसीय शिविर आयोजित किया जा रहा है. विदर्भ प्रांत के प्रवासी कार्यकर्ताओं का 3 दिवसीय शिविर 17 से 19 जनवरी तक आयोजित होगा, जिसमें प्रांत से लगभग पांच हजार चार सौ कार्यकर्ता उपस्थित रहने वाले हैं. विदर्भ प्रांत का यह पहला शिविर होगा. संघ कार्य की रीढ़ कहे जाने वाले प्रवासी कार्यकर्ता को केंद्र में रखकर शिविर का आयोजन किया गया है. मंडल, नगर, महानगर, जिला, विभाग के संघ व्यवस्था के विभिन्न स्तरों पर कार्य करने वाले सभी कार्यकर्त्ता शिविर में सम्मिलित होने वाले हैं. विदर्भ प्रान्त में कुल 1246 मंडल, 455 उपखंड, 141 तालुका, 125 नगर, 19 ग्रामीण तथा 14 शहरी जिला तथा 8 विभाग शामिल हैं.

अमरावती – बडनेरा मार्ग स्थित 27 एकड़ मे फैले विशाल मैदान में यह सम्पन्न होगा. शिविर में स्वयंसेवकों की व्यवस्था के लिये 600 टेंट खड़े किये गए हैं, शिविर परिसर का नाम “अम्बानगरी” रखा गया है, यह अमरावती की ग्राम देवता माता अम्बादेवी के नाम पर रखा गया है. कुल पांच नगरों में स्वयंसेवकों की व्यवस्था की गयी है. नगरों के नाम रिद्धपुर, कोंडन्यपुर, गुरुकुंज नगर,  मुक्त्गीरी नगर तथा रुणमोचन नगर होंगे. हर एक नगर के नाम भी अमरावती की प्राचीन विशेषता तथा पुण्यक्षेत्र को अधोरेखित करते हैं.

समाज के विभिन्न 30 प्रमुख मान्यवरों की स्वागत समिति बनाई गई है, जिसके अध्यक्ष संजय जी जाधव हैं. शिविर में सरसंघचालक डॉ. मोहन जी भागवत, सह सरकार्यवाह भागय्या जी, अ भा.व्यवस्था प्रमुख मंगेश जी भेंडे, अ. भा. सह संपर्क प्रमुख सुनील जी देशपांडे सहित अन्य कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करेंगे. सरसंघचालक जी पूर्ण समय शिविर में उपस्थित रहेंगे. शिविर की दिनचर्या सुबह 5.00 बजे से रात्रि 10.30 बजे तक रहेगी.

प्रदर्शनी का उद्घाटन 17 जनवरी को दोपहर 4 बजे होगा. सामाजिक सद्भाव समूह, धार्मिक संस्था, सेवाभावी संस्था ngo, प्रबुद्ध नागरिक समूह, शिक्षा क्षेत्र समूह की बैठकों का आयोजन होगा. शिविर में नागरिकों के लिये संघ विषयक गतिविधि की भव्य प्रदर्शनी भी लगाई जाने वाली है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + fourteen =