संघ का ध्येय सम्पूर्ण समाज को समरस,शोषण मुक्त,समता युक्त व सुसंगठित कर संसार में अजेय व सात्विक सज्जन शक्ति खड़ी करना है – सूर्य प्रकाश जी

जयपुर (विसंकें)। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सीकर नगर के स्वयंसेवकों द्वारा संघ के स्थापना दिवस पर स्थानीय जैन भवन में शस्त्र पूजन एवं द्विधारा पथ संचलन किया गया। कार्यक्रम में सीकर नगर के स्वयंसेवकों ने भाग लिया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्रीमान  शिवनाथ सिंह जी (पूर्व महाविद्यालय प्राचार्य) एवं मुख्यवक्ता संघ के जयपुर प्रांत सेवा प्रमुख सूर्य प्रकाश जी रहे।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एक छोटी सी शाखा के रूप में 93 वर्ष पूर्व श्री विजयादशमी से प्रारंभ होकर आज सम्पूर्ण देश में 55 हजार स्थानों पर प्रत्यक्ष कार्य लेकर खड़ा है। संघ का ध्येय सम्पूर्ण समाज को समरस, शोषण मुक्त, समता युक्त व सुसंगठित कर संसार में अजेय व सात्विक सज्जन शक्ति खड़ी करना है जो विश्व मंगल के मार्ग पर अग्रसर हो सके। इस हेतु जनमानस को बलसम्पन्न व चरित्र सम्पन्न बनना होगा। इसी कारण हम आज के दिन शक्ति का आवाहन व उपासना करते हैं।

कार्यक्रम में जैन भवन से प्रातः 11:10 बजे संचलन की दो धाराएं निकलीं, जिनका प्रथम संगम 11:17 बजे तहसील चौराहा व द्वितीय संगम 11:32 बजे पांच बत्ती जाटिया बाजार में हुआ। नगर के प्रबुद्ध जनों एवं मातृशक्ति द्वारा भगवद् ध्वज पर पुष्प वर्षा की गई व भारतमाता की जय के उद्घोष के साथ संचलन का भव्य स्वागत किया गया।

pathsanchalan1

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − 3 =