संसार से प्रेम करके ही हम जीवन यात्रा सफल – पू. नारायण दास जी

संसार से प्रेम करके ही हम जीवन यात्रा सफल – पू. नारायण दास जी

विसके जयपुर। 019

जयपुर 9 फरवरी। अशांत प्राणी को सुख की प्राप्ति नहीं होती। संसार से प्रेम करके ही हम अपनी जीवन यात्रा को सफल कर सकते है। आज दुर्गापुरा स्थित राज्य कृषि प्रबन्धन संस्थान में आयोजित दानशील समारोह में आर्शीवचन देते हुए ब्रह्मपीठाधीश्वर पू. संत श्री नारायणदास जी महाराज, त्रिवेणीधाम ने कहा।

राजस्थान संस्कृत 018अकादमी और संस्कृत पत्रिका भारती द्वारा आयोजित भामाशाह समारोह में उन्होनें कहा की विद्या और अविद्या में मात्र इतना ही फर्क है, विद्या सबकी सेवा, सहानुभूति और रक्षा करना सिखाती है और अविद्या माता-पिता, गुरू व किसी अन्य की अवहेलना। विद्वान पण्डित वही है जो सब के प्रति दया भाव रखता है। हमारी संस्कृति में बडों के आर्शीवाद से ही प्रगति होती है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राजस्थान संस्कृत अकादमी की अध्यक्षा डॉ. जया दवे ने कहा की राजस्थान के महाकवि माघ की जयन्ती पर बसंत पंचमी से आयोजित इस दस दिवसीय माघ महोत्सव में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन राजस्थान में 014अनेक स्थानों पर किया गया है। समाज में अलग-अलग क्षेत्रों में सहयोग करने वाले विभिन्न भामाशाहों का सम्मान किया गया।

डॉ. दवे ने कहा की संस्कृत हमारी अस्मिता है, यह भारत की पहचान है। देश की पहचान भाषा से होती हैं। उन्होनें यह कहते हुए दुःख व्यक्त किया की आज जर्मनी में संस्कृत उत्सव का आयोजन हो रहा है, किन्तु भारत में संस्कृत भाषा का उपयोग नित्य जीवन में कही नहीं होता है।

समारोह में उपस्थित साध्020वी प्रीति प्रियम्वदा ने कहा की दान की परम्परा अन्नत काल से चली आ रही है। दान की वृत्ति त्याग की वृत्ति है, जो दान करता है वह पाता भी है। दान ही लोभ से बचने का साधन है, लोभ के कारण ही अपराध होते है। उन्होनें कहा की समाज में संग्रह की प्रवृ्त्ति छुटनी चाहिए और दान कि बढनी चाहिए। महाकवि माघ ने अपना सम्पूर्ण जीवन दान किया और अन्त में दान न कर पाने के कारण ही अपने प्राण त्याग दियें।

इन का हुआ सम्मान

समाज में विभिन्न क्षेत्रों में तन-मन-धन से सहयोग करने वाले इन भामाशाहों का सम्मान हुआ उनमें घनश्याम ओझा, संजय दत्ता, मेघराज सिंह शेखावत, रामेंश्वर खण्डेलवाल, चन्दालाल यादव, किशोर शर्मा, महेन्द्र कुमार चित्तौडिया, हरजेश नाराणिया, मोहनलाल कुमावत, रामगोपाल कनोजिया, रामेश्वर लाल राठौड, सत्यनारायण विजयवर्गीय, अशोक कुमार छीपा, विमला कुमावत, अशोक सरणा, ईश्वर चन्द अग्रवाल, नारायण दास गुरनानी, अशोक पंवार, यतेन्द्र जैन, संजय सिहं, शांतिलाल गुर्जर, महेन्द्र सिहं राव, माधो सिंह कछवाह, धर्मेन्द्र पठानिया, डॉ. दिनेश बैरवा, डॉ. दाउदयाल शर्मा, देवेन्द्र विश्नोई, दामोदर मोदी, सूरजमल मुंडोतिया, हरजीराम जी शामिल थे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirteen − seven =