संस्कारों के क्षरण के कारण ही पर्यावरण का नुकसान हो रहा है- निंबाराम जी

apna sansthan1जयपुर (विसंकें)। अमृता देवी पर्यावरण नागरिक (अपना)संस्थान जयपुर प्रांत की ओर से आज रविवार दिनांक 7 अक्टूबर 2018 प्रातः 10:00 बजे से खासा कोठी के निकट स्थित होटल कंट्री इन में सम्मान समारोह आयोजित किया गया। समारोह की अध्यक्षता करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह क्षेत्रीय प्रचारक श्री निंबाराम जी ने अपने उदबोधन में कहा कि हमारी जीवन पद्धति वैज्ञानिक है। पर्यावरण हमारे जीवन से जुड़ा रहा है। संस्कारों के क्षरण के कारण ही पर्यावरण का नुकसान हो रहा है। अपना संस्थान धरातल पर मजबूती से पर्यावरण के क्षेत्र में स्थाई काम कर रहा है।
सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री श्री अरुण जी चतुर्वेदी समारोह के मुख्य अतिथि थे। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए। पर्यावरण संरक्षण वर्तमान समय का ज्वलंत विषय है इसलिए इस क्षेत्र में कार्य करना आवश्यक है।
अपना संस्थान के राजस्थान क्षेत्र के क्षेत्रीय सचिव श्री विनोद जी मेलाना ने इस अवसर पर कहा कि हम जल बना नहीं सकते इसलिए जल संरक्षण आवश्यक है। विनोद जी ने भीलवाड़ा में जल संरक्षण पर किए गए प्रयोगों की जानकारी भी दी। उनके प्रयोगों से भीलवाड़ा शहर के भूमिगत जलस्तर में बहुत सुधार हुआ है।
इस अवसर पर अपना संस्थान का एप “नेचर का फ्यूचर” भी लोकार्पित किया गया।
महापौर श्री अशोक लाहोटी समारोह के विशिष्ट अतिथि थे।
प्रान्त संयोजक श्री अशोक शर्मा ने स्वागत भाषण किया।
समारोह में जयपुर प्रांत में पर्यावरण संरक्षण,पौधारोपण, जल संरक्षण आदि विषयों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले महानुभावों का सम्मान किया गया। कार्यक्रम के दौरान श्रीमाधोपुर के डॉ योगेश यादव, श्री सतवीर सामोता, जमवारामगढ़ के श्री समंदर सिंह मीणा, टोंक के श्री प्रदीप चौधरी, निवाई के श्री राम सहाय वर्मा, दातारामगढ़ की श्रीमती मधु कुमावत, लालसोट के संत श्री रघुनाथ जी, संस्कृति चिल्ड्रन एकेडमी के समन्वयक श्री आयुष शर्मा, लालसोट के श्री शंभू लाल शर्मा, उदयपुरवाटी के डॉक्टर हरिसिंह गोदारा, सीकर के श्री ताराचंद शर्मा, कोटडी धायलान के श्री मनोज शर्मा, जयपुर के श्री सूरज सोनी , श्री शीतल जैन, अमृत पारीक, रघुनंदन मिश्रा, सुरेश शर्मा, विभव जैन, अक्षत भारद्वाज,तनिष्का, श्री मोहन सैनी सहित अनेक लोगों का सम्मान किया गया।

apna sansthan

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eleven + three =