हिंदुत्व विश्व की सबसे बेहतर जीवन पद्धतिः अजय कुमार

जयपुर (विसंकें)। समाज की मजबूती एवं देश की चमक प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य बनना चाहिए। इस पुनीत कार्य के लिए हिंदुत्व से बेहतर कोई अन्य व्यवस्था नहीं है। हिंदुत्व कोई मजहब अथवा संकीर्ण अवधारणा नहीं, बल्कि विश्व की सबसे बेहतर जीवन पद्धति है। ये विचार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उत्तर क्षेत्र के बौद्धिक प्रमुख अजय कुमार जी हरियाणा के फरीदाबाद में व्यक्त किए। बौद्धिक प्रमुख अजय कुमार जी ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि हम हिंदुस्तान में जन्मे और हिंदुत्व का अंग बनें। हिंदुत्व भारत में गर्व का विषय है, न कि शर्म अथवा पिछड़ेपन का प्रतीक। हमें अपनी भाषा, खानपान, रहन सहन पर गर्व करना चाहिए और अंग्रेजियत का पिछलग्गू नहीं बनना चाहिए, क्योंकि पिछलग्गू समाज कभी भी विश्व का नेतृत्व नहीं कर सकता। उन्होंने आगे कहा कि प्रकृति की पूजा हिंदुत्व के मूल में है। आज अनेक आसुरी शक्तियां देश को जाति, मजहब, क्षेत्र व भाषा के नाम पर हिंदुत्व की व्यवस्था को प्रदूषित करने, अपने परम पुनीत भारत राष्ट्र को तोड़ने व अस्थिर करने का कुप्रयास कर रहीं हैं, लेकिन अब हिन्दू जाग रहा है, संगठित हो रहा है। जागृत एवं संगठित हिन्दू शक्ति के होते इन आसुरी शक्तियों के इरादे कभी सफल नहीं होंगे। इस 21वीं सदी में भारत विश्व की एक बड़ी महाशक्ति के रूप में स्थापित होगा। इसके लिए आवश्यक है कि हम सभी जातिवाद, क्षेत्रवाद, भाषा एवं मजहबी भेदभाव भुलाकर राष्ट्रहित में एक हों।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + 20 =