पर्यावरण चेतना की दिशा में योजना बनाकर काम करने की आवश्यकता—डॉ.भगवती प्रकाश

—’अपना संस्थान’ कीimg_20160924_152849 ‘पर्यावरण संरक्षण’ पर प्रेसवार्ता
विसंकेजयपुर
जयपुर, 24 सितम्बर। रा.स्वयंसेवक संघ, राजस्थान क्षेत्र संघचालक डॉ.भगवती प्रकाश ने बताया कि पहले हर मौसम में फलनेवाले पेड हर आधा किलोमीटर के फांसले पर मिल जाते थे जिनसे पक्षियों को आवास व भोजन आसानी से उपलब्ध हो जाता था। आज इसमें बडी कमी आई है। पक्षियों को दाना—पानी के लिए मीलों दूर जाना पडता है और नहीं मिलने पर उनकी अकाल मौत हो जाती है। इन सबको देखते हुए आज पर्यावरण संरक्षण की दिशा में योजना बनाकर कार्य करने की आवश्यकता है।
डॉ.भगवती प्रकाश शनिवार को विश्व संवाद केन्द्र पर अपना संस्थान की ओर से आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।
जैव विविधता के बारे में जानकारी देने हुए उन्होंने कहा कि हमें सार्वजनिक स्थानों पर विविध प्रकार के फलदार पौधों का रोपण नियमित करना होगा ताकि पक्षियों को बारह महीनें दाना—पानी मिल सके।
उन्होंने कहा कि 75 करोड टन कोयला बिजली बनाने में खर्च हो रहा है जिससे पर्यावरण खराब हो रहा है। हिमालय के हिमखण्ड गल रहे हैं। गोमुख कुण्ड 18 किमी पीछे चला गया है। 2035 तक हिमालय के हिमखण्ड गल जाएंगे। शेष देशों में भी ग्लेसियर के आकार घटने का सिलसिला जारी है। समुद्र का स्तर दिनप्रतिदिन बढ.ता जा रहा है जो चिंता बढाने वाला है।
डॉ.भगवती प्रकाश ने कहा इसके चलते पक्षियों की अनेक जातियां लुप्त प्राय हो गई है। इसलिए अपना संस्थान इस पारिस्थितिक असंतुलन को ठीक करने के लिए सघन पौधारोपण का कार्यक्रम हाथ लिया।
तीन लाख से अधिक पौधारोपण
अपना संस्थान प्रदेश सचिव श्री विनोद मैलाना ने बताया कि अपना संस्थान ने पौधें लगाने का अभियान इस सत्र में हाथ में लिया। अभियान जन—अभियान बना। प्रदेशवासियों ने पौधारोपण के प्रति उत्साह दिखाया। प्रदेश के 7209 ग्रामों में तीन लाख चार हजार एक सौ चालीस पौधें लगाए गए है। आगामी दो—तीन सालों तक लगायें गये पौधों की देखभाल की पुख्ता व्यवस्था भी की जा रही है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen + 19 =