स्वस्थ भारत, समर्थ भारत, सम्पूर्ण भारत—श्री गुणवंत सिंह कोठारी

unnamed-4 unnamed-5 —उदयपुर के फतहसागर की पाल पर गूंजा वंदेमातरम्
-हिन्दू अध्यात्म एवं सेवा संगम-2016

विसंकेजयपुर
उदयपुर, 08 नवम्बर। उदयपुर की विश्व प्रसिद्ध फतहसागर झील की पाल पर मंगलवार को शहर ने इतिहास रच दिया। 147 स्कूल—काॅलेज के पचास हजार विद्यार्थियों सहित शहर के नागरिकों ने एक स्वर में वंदेमातरम् बोलकर भारत माता की सामूहिक आरती की। राष्ट्रचेतना के नाद वंदेमातरम के साथ ही ‘हिन्दू अध्यात्म एवं सेवा संगम—2016’ का आगाज हुआ। उदयपुर में पहली बार हुए ऐसे अनूठे आयोजन में कल्याणजी आनंदजी समूह के आनंदजी के नेतृत्व में उनके और बाबला शाह समूह की सुरलहरियों ने समां बांध दिया।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह सेवा प्रमुख श्री गुणवंत सिंह कोठारी ने कहा कि हमें स्वच्छ भारत के साथ, स्वस्थ भारत, समर्थ भारत और सम्पूर्ण भारत का निर्माण करना है। उन्होंने कहा कि हिन्दू अध्यात्म एवं सेवा संगम भारतीय संस्कृति के छह मूल्यों पर आधारित है। इन छह मूल्यों में वनों का संरक्षण एवं वन्यजीवों का संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, पारिस्थिति संरक्षण, मानवीय और पारिवारिक मूल्यों को बढ़ावा देना, नारी सम्मान को प्रोत्साहन, देशभक्ति का भाव जगाना शामिल है। उन्होंने कहा कि हिन्दू समाज में कई संस्थाएं हैं जो निःस्वार्थ समाज सेवा का कार्य कर रही है। उनके कार्य को समाज देखे, समझे और उनका सहयोगी बने, इसी भावना को लेकर इस सेवा संगम का आयोजन किया जा रहा है। 10 से 13 नवम्बर तक इन छह मूल्यों पर आधारित विभिन्न आयोजन भी होंगे जो समाज में भारतीय संस्कृति के दर्शन कराने के साथ ही नई पीढ़ी में उसके संचार का भी माध्यम बनेंगे।
जम्मू के पंचवक्त्र मंदिर के महंत पंचवक्त्र गिरि जी, जैन संत सेनसूरिश्वर जी म.सा., हरिहर आश्रम के महंत सुंदरदास जी, धोलीबावड़ी रामद्वारा के महंत दयाराम जी आदि का आशीर्वाद मिला। unnamed-7
देश में फैले नकारात्मक प्रदूषण को दूर करेगा वंदेमातरम्—श्री पर्रिकर
केन्द्रीय रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा कि दिल्ली में सिर्फ वायु प्रदूषण ही नहीं, राजनीतिक प्रदूषण भी फैला है। इसे वंदेमातरम् का उद्घोष ही दूर कर सकता है। मेरे देश का सोना, चांदी, हीरे, मोती मेरे सामने खड़े हैं। मैं उनसे कहता हूं कि वे ऐसी प्रदूषित हवा न होने दें। देश को ऐसे प्रदूषण से unnamed-8नई पीढ़ी को ही बचाना है। उन्होंने पड़ोसी देश पाकिस्तान का नाम लिए बिना यह भी कहा कि हमारे पर बुरी नजर डालने वाले को बराबर अक्ल दे दी है। देश के जवान अपनी जान हथेली पर रखकर देश की सुरक्षा कर रहे हैं। उन्होंने वंदेमातरम् के उद्घोष के साथ उनके पीछे खड़े रहने का आह्वान किया ताकि उनकी हौसला अफजाई हो। इस मौके पर रक्षामंत्री ने शहरवासियों को शपथ भी दिलाई।
ब्रेन ड्रेन नहीं, गेन करें
कार्यक्रम में आशीर्वादप्रदाता गो.ति. भूपेश कुमार जी (विशाल बावा) ने कहा कि हमें ब्रेन ड्रेन को ब्रेन गेन में बदलना है। हम इंटरनेट पर विदेशों को देखकर उन्हें अच्छा मान लेते हैं, लेकिन हमें अपनी ही वस्तुओं में वैसी गुणवत्ता नजर नहीं आती। उन्होंने ‘जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी’ को उद्धृत करते हुए कहा कि हम कहीं भी चले जाएं, जहां हम पैदा हुए, वही भूमि हमें जान से प्यारी लगती है। वही हमारे लिए पूजनीय है। हमारे देश से प्रतिभा का पलायन न हो, इसकी हमें चिंता करनी होगी।
10 नवम्बर से शुरू होगा संगम
हिन्दू अध्यात्म सेवा संगम उदयपुर चेप्टर के अध्यक्ष विरेन्द्र डांगी ने बताया कि 10 से 13 नवम्बर तक बीएन मैदान में हिन्दू अध्यात्म एवं सेवा संगम का आयोजन होगा। सेवा और समरसता को हर जन का विषय बनाने के उद्देश्य से यह आयोजन हो रहा है। छह मूल्यों में वनों का संरक्षण एवं वन्यजीवों का संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, पारिस्थिति संरक्षण, मानवीय और पारिवारिक मूल्यों को बढ़ावा देना, नारी सम्मान कोप्रोत्साहन, देशभक्ति का भाव जगाना शामिल है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen + five =