जयपुरवासियों ने लिया नेत्रदान का संकल्प

—सक्षम का नेत्रदान संकल्प समारोह सम्पन्न
विसंकेजयपुर14212637_1149135181820576_1626574422923586775_n
जयपुर, 8 सितम्बर। सृमदृष्टि, सक्षता, विकास एवं अनुसंधान मण्डल, जयपुर सक्षम की ओर से गुरूवार को अम्बावाडी स्थित आदर्श विद्या मंदिर में ‘नेत्रदान संकल्प समारोह’ का आयोजन किया गया। समारोह में सैकडों की संख्या में जयपुरवासी शामिल हुए। कार्निया अंधत्वमुक्त भारत अभियान के तहत आयोजित इस समारोह में सुख सागर सांभरलेक योगी रमणनाथ जी महाराज का पावन सानिध्य मिला। योगी रमणनाथ जी ने उपस्थित समाज—बंधुओं को नेत्रदान करने का संकल्प दिलाया।
मुख्य वक्ता सक्षम के रा.उपा ध्यक्ष एवं नेत्र सर्जन डॉ.पवन स्थापक थे। समारोह को संबोधित करते हुए डॉ.पवन स्थापक जी ने कहा कि नेत्रदान के लिए लोगों को उत्साही करने की आवश्यकता है। मरणन्नासन व्यक्ति और उसके परिवारवालों के लिए नेत्रदान महादान साबित हो सकता है। उपस्थित विद्यार्थियों से आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि केवल सपने देखने से काम नहीं चलनेवाला है। नेत्रदान को जन—जन तक पहुंचाने के लिए विद्यार्थियों को काम करना होगा। उन्हें कमर कसनी होगी। विद्यार्थी केवल भाषण सुनने नहीं आए है हमें नेत्रदान करने के महत्वपूर्ण विचार को आगे बढाना होगा। अगर ऐसा हम कर पाये तो हम सब का यहां आना सार्थक होगा।
समारोह के अध्यक्ष महाप्रबंधक कार्यालय पंजाब नेशनल बैंक जयपुर के मुख्य प्रबंधक श्री दिनेश गुर्जर ने कहा कि युवा पीढी इस अभियान से निस्वार्थ भावना से जुडे.। विद्यार्थी नेत्रदान के इस पावन पुनीत कार्य की शुरूआत स्वयं से संकल्प पत्रक भरकर करें। हम सब जानते हैं कोई काम असंभव नहीं है। युवा पीढी ठान ले तो का14249865_1149135065153921_5507140743570913412_oर्य पूर्ण करके ही दम लेती है।
रा.स्वयंसेवक संघ, राजस्थान क्षेत्र के सेवा शिक्षण प्रमुख श्री शिवलहरी जी ने कहा कि भगवान ने हमें यह शरीर दिया है। शरीर में विभिन्न अंग भी दिए है उनमें से आंख भी एक है। भगवान द्वारा प्रदत जो अंग हमारे पास है उन्हें देना ही सेवा है। हम सबको नेत्रदान करने की आवश्यकता है। इस पावन पुनीत कार्य में स्वयं और अपने परिवार की सहभागिता सुनिश्चित करे। ऐसा कर हम स्वस्थ भारत का निर्माण करने में सफल होंगे।
कार्यक्रम के अंत में नेत्रदान कराने में सहयोग करनेवाली शैक्षणिक संस्थाओं के निर्देशकों एवं संस्थाओं के कार्यकर्ताओं को पुरस्कृत भी किया गया।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 4 =