देशप्रेम का संस्कार महत्वपूर्ण-इंद्रेश्‍ा कुमार

—लखनऊ में युवा सामर्थ्य सम्मेलन
—युवाओं को संघ की प्रेरणा और मार्गदर्शन
विसंकेजयपुर
लखनऊ, 11 सितम्बर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ लखनऊ महानगर की ओर से रविवारthumb को युवा सामर्थ्य शिविर का आयोजन किया। कार्यक्रम का उद्घाटन क्षेत्र प्रचारक श्री शिव नारायण ने किया। अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य श्री इंद्रेश कुमार ने शिविर में युवाओं को राष्ट्रवाद, नैतिक और सामाजिक सद्भाव जैसे अनेक महत्वपूर्ण विषयों से प्रेरित और मार्गदर्शित किया। उन्होंने कहा कि भारत विश्व का सबसे युवा देश है, संघ चाहता है कि राष्ट्र के नौजवान शिक्षित और रोज़गार युक्त हों। युवाओं को शिक्षा के साथ भारतीय जीवनमूल्य और देशप्रेम का संस्कार मिले। उन्होंने युवाओं से शिक्षा में नैतिक मूल्यों को विकसित करने का आह्वान भी किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सह प्रांत संघचालक डॉ हरमेश चौहान ने की।
हम कट्टर नहीं सच्चे बनें
श्री इंद्रेश कुमार ने शिक्षकों से भी कहा कि वे छात्रों के अंदर विषय के साथ जीवन मूल्यों को भी प्रमुखता से रोपित करें, तभी विश्व का नेतृत्व करने वाला भारत बनेगा। हम कट्टर नहीं सच्चे बनें, मजहबी राजनीति और धार्मिक उन्माद फैलाने वालों से नफरत करें, सामाजिक सद्भाव को ज्यादा से ज्यादा प्रोत्साहित करें और जातिभेद की उपेक्षा करें।
दुश्मन को सबक सिखाएंगे
उन्होंने यहां कश्मीर का भी जिक्र किया और कहा कि कश्मीर के अलगाववादियों को मिलने वाली सुरक्षा और भौतिक सुविधाएं वापस ली जाएं, सुरक्षा और सुविधा की सही हकदार वहां की आवाम है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का झंडा लहराने वाले और पत्थरबाजों को सुविधा और सुरक्षा क्यों ‌मिले? देश के दुश्मन और गद्दार को अब हम पालेंगे नहीं, बल्कि उन्हें सबक सिखाएंगे।
आधे से ज्यादा चाहते हैं पाक से आजादी 

पाकिस्तान का 58 प्रतिशत भूभाग 1948 से आजादी चाहता है। पाकिस्तान से आजादी मांगने वाले लाखों बलूचियों का अबतक कत्ल कर दिया गया है। उन्हें तोपों से उड़ाया गया है। यातनाएं देकर मारा जा रहा है। इसी प्रकार पाकिस्तान से गुलाम कश्मीर और सिंध भी आजादी की मांग कर रहा है। सिंधु के लोग भी पाकिस्तान में सिंधु देश की मांग कर रहे हैं। बलूच क्षेत्र तो भारत के साथ रहने का सपना देख रहा है, जरा भौगोलिक परिस्थितियां कठिन हैं।

पहले हिंसा फैलाना बंद करे

उन्होंने कहा कि अलगाववादियों से बात तभी ही होगी, जब वह कश्मीर में हिंसा फैलाना, पाकिस्तान का झंडा लहराना, कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार करना और सुरक्षाबलों पर पत्थर मारना बंद करेंगे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 4 =