गौसेवा, गौ संरक्षण के लिए समाज एकजुट होकर कार्य करे – अनिल ओक जी

himalaya-hunkar-patra-vimochan-300x142 देहरादून (विसंकें). रविवार को देहरादून में पाक्षिक पत्रिका ‘हिमालय हुंकार’ के ‘गौमाता विशेषांक’ का विमोचन किया. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के केन्द्रीय सह व्यवस्था प्रमुख अनिल ओक जी ने कहा कि गौ सेवा, गौ संरक्षण समाज की जरूरत है. इसे करने के लिए देशवासी बिना भेदभाव एकजुट होकर कार्य करें. गौहत्या के लिए केवल कसाई ही नहीं, हम भी जिम्मेदार हैं. गौ संरक्षण के लिए हम क्या कर सकते हैं, इसका संकल्प लेने का समय है. गंगा, गायत्री, तुलसी और गाय को माता कहते हैं. ये सभी मातायें भारत माता के अन्दर रहती है. इनका संरक्षण भारत माता का संरक्षण है.

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता वरिष्ठ पत्रकार जगदीश उपासने जी ने ‘हिमाprogram-300x146लय हुंकार के गौमाता विशेषांक को शुभकामनाएं दी तथा कहा कि गौरक्षा एवं संवर्धन का प्रश्न केवल भावात्मक ही नहीं आर्थिक भी है. गौरक्षा की जिम्मेदारी पूरे समाज की है. इस्लाम में भी गौहत्या की मनाही है. उन्होंने गौहत्या के प्रश्न पर मीडिया के रुख पर चिन्ता व्यक्त की तथा कहा कि मीडिया गौ संरक्षण के प्रश्न को हिन्दू मुस्लिम बनाकर प्रस्तुत करता है. जिससे अनेक समस्याएं खड़ी होती है. समाचारों को तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया जाता है. जिससे सच्चाई जनता के सामने नहीं आती.

उन्होंने कहा कि पत्रकारों को यह विश्वास रखना चाहिए कि पत्रकारिता एक महत्वपूर्ण विशिष्ट और उत्साहजनक कला है और इसे ईमानदारी के साथ किया जाए तो यह देश और समाज की सबसे बड़ी सेवा कर सकती है. पत्रकार पत्रकारिता को पुनर्परिभाषित करें. पत्रकारिता में उपादेयता, विश्वसनीयता और भरोसेमंद तथा पारदर्शी होना हमेशा महत्वपूर्ण है. पत्रकारिता दूसरों के लिए भले उद्योग हो, पत्रकारों के लिए समाज परिवर्तन और प्रबोधन की कला है. मीडिया चाहे जो हो पत्रकार को उसके लिए स्वयं को तैयार करना चाहिए.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × 5 =