Viswa Samvada Kendra Jaipur

0

शिक्षा सागर सेवा विद्यालय ने मनाया चतुर्थ स्थापना दिवस समारोह

निर्धन व वंचित वर्ग के बच्चों के लिए सांगानेर की शिक्षा सागर कालोनी में निशुल्क संचालित शिक्षा सागर सेवा विद्यालय का चतुर्थ स्थापना दिवस समारोह 23 फरवरी रविवार को मनाया गया जिसमें बच्चों ने...

0

अतीत में हुई गलतियों की पुनरावृति रोकने के लिए साहित्य पढ़े : स्वांत रंजन

तीन दिवसीय पुस्तक मेला सम्पन्न सीकर । विश्व संवाद केंद्र द्वारा बजाज रोड़ स्थित जैन भवन में आयोजित तीन दिवसीय शेखावाटी ज्ञान गंगा पुस्तक मेला, गुरुवार को सफलतापूर्वक सपंन्न हो गया। मेले में सुबह...

0

सर्वजातीय विवाह सम्मेलन : 5 जातियों के 12 जोड़ो परिणय सूत्र में बंधे

दिनांक 25 फरवरी, फुलेरा दूज के शुभ दिन सेवा भारती समिति जिला भरतपुर द्वारा छठवां श्री राम जानकी सर्व जातीय सामूहिक विवाह सम्मेलन पार्श्व वाटिका जैन नसिया सर्कुलर रोड भरतपुर में आयोजित हुआ, जिसमें...

0

भारत को सुपर पावर नहीं बल्कि विश्वगुरु बनाना है सुधांशु त्रिवेदी

आज दिनांक 26फरवरी को सीकर के स्थानीय जैन भवन में ज्ञान गंगा पुस्तक मेले में बोल रहे थे, इन्होंने बताया कि सीएए को लेकर जो महिलाएं शाहीन बाग मे विरोध कर रही है, उनमें...

0

एक ही स्थान पर दिखेगी हजारों सेवा कार्यो की झलक

मार्च में आयोजित होगा राष्ट्रीय सेवा संगम जयपुर । महात्मा गांधी कहते थे कि यदि आप खुद को खोजना चाहते हो तो अपने आप को दूसरों की सेवा में खो दो। ऐसे ही निःस्वार्थ...

0

संवाद केन्द्र के चुनाव व साधारण सभा सम्पन्न

जयपुर। विश्व संवाद केन्द्र की नवीन कार्यकारिणी के चुनाव व साधारण सभा की बैठक गुरुवार को न्यू काॅलोनी स्थित मधुकर भवन में चुनाव अधिकारी महेन्द्र कुमार की अध्यक्षता में आयोजित हुई। बैठक में डाॅ....

0

19 फरवरी जन्म दिवस आध्यात्मिक कर्मयोगी: श्री गुरुजी भाग-2

भारत के प्रत्येक जिले में प्रवास करते हुए श्री गुरुजी राष्ट्रीय महत्व की समस्याओं और मुद्दों पर लोगों एवं सरकार को सचेत करते हुए भविष्य में आने वाले संकटों की जानकारी तथा उनका समाधान...

0

साकार होनी शुरू हो गई ‘गांधी के भारत’ की कल्पना – डॉ. मोहन भागवत

जयपुर (विसंके), 17 फरवरी। गांधी स्मृति स्थित कीर्ति मंडल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहनराव भागवत ने प्रो. जगमोहन सिंह राजपूत की नई पुस्तक ‘गांधी को समझने का यही समय’ का लोकार्पण...

0

आध्यात्मिक कर्मयोगी: श्री गुरुजी-भाग 1

राष्ट्राभिमुख समाज रचना के पुरोधा आदरणीय माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर उपाख्य ‘श्री गुरु जी’ के राष्ट्र समर्पित जीवन के अनेक प्रेरक प्रसंग हमारा मार्ग दर्शन कर सकते हैं. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरुजी ने अपने...

0

सृष्टि का प्रथम राष्ट्र भारत

भारत के उत्थान का आधार है सांस्कृतिक राष्ट्र जीवन नरेंद्र सहगल भारतीय चिंतन में राष्ट्र एक महान जीवमान, स्वयंभू सांस्कृतिक इकाई है, जबकि पश्चिम में राष्ट्र को राज्य मानकर एक राजनीतिक परिकल्पना मान लिया...