स्वामी रामसुखदास जी /पुण्यतिथि आषाढ़ कृष्ण द्वादशी

स्वामी रामसुखदास का जन्म राजस्थान के नागौर जिले के ग्राम माडपुरा में रूघाराम पिडवा के यहाँ माघ शुक्ला त्रियोदशी सन् 1904 मे हुआ। उनकी माता कुन्नीबाई के सहोदर भ्राता सद्दाराम रामस्नेही सम्प्रदाय के साधु थे।

४ वर्ष की आयु मे ही माता जी ने राम सुखदास को इनके चरणो मे भेट कर दिया। किसी समय स्वामी कान्हीराम गांवचाडी ने आजीवन शिष्य बनाने के लिए आपको मांग लिया।

शिक्षा दीक्षा के पश्चात वे सम्प्रदाय का मोह छोडकर विरक्त (संन्यासी) हो गये और उन्होंने गीता के मर्म को साक्षात् किया और अपने प्रवचनो से निरन्तर अमृत वर्षा करने लगे।

गीता प्रेस गोरखपुर द्वारा संचालित समस्त साहित्य का आप वर्षो तक संचालन करते रहे। आपने सदा परिव्राजक रूप में सदा गाँव-गाँव, शहरों में भ्रमण करते हुए गीताजी का ज्ञान जन-जन तक पहुँचाया।

और साधु-समाज के लिए एक आदर्श स्थापित किया कि साधु-जीवन कैसे त्यागमय, अपरिग्रही, अनिकेत और जल-कमलवत् होना चाहिए और सदा एक-एक क्षणका सदुपयोग करके लोगों को अपने में न लगाकर सदा भगवान्‌ में लगाकर; कोई आश्रम, शिष्य न बनाकर और सदा अमानी रहकर, दूसरो कों मान देकर द्रव्य-संग्रह, व्यक्ति पूजा से सदा कोसों दूर रहकर अपने चित्र की कोई पूजा न करवाकर लोग भगवान्‌ में लगें।

ऐसा आदर्श स्थापित कर गंगातट, स्वर्गाश्रम, हृषिकेश में आषाढ़ कृष्ण द्वादशी वि॰सं॰२०६२ (दि. ३.७.२००५) ब्राह्ममुहूर्त में (3 बजकर 40 मिनिट) भगवद्-धाम पधारे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × 5 =