अमरनाथ तीर्थयात्रा में अब तक 1.84 लाख यात्रियों ने किये बाबा बर्फानी के दर्शन

जयपुर (विसंकें)| जम्मू-कश्मीर में अमरनाथ तीर्थयात्रा में अब तक 1.84 लाख से अधिक यात्रियों ने पवित्र अमरनाथ गुफा में बाबा बफार्नी के दर्शन किये है।

यात्रा अधिकारी ने यूनीवार्ता को बताया, “पारंपरिक पहलगाम और करीबी मार्ग वाले बलटाल मार्गाें पर यात्रा सोमवार को सुचारू रूप से जारी है।” उन्होंने बताया कि जम्मू के भगवती नगर से महिलाओं, बच्चों एवं साधुओं सहित यात्रियों का नया जत्था आज सुबह मध्य कश्मीर के गंदेरबल जिले के बालटाल तथा दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग स्थित नूनवान पहलगाम आधार शिविरों के लिए रवाना हुआ।

अधिकारी ने बताया कि एक जुलाई को तीर्थयात्रा शुरू होने से लेकर अब तक 1.84 श्रद्धालुओं ने पवित्र शिवलिंग के दर्शन कर लिये हैं। अमरनाथ तीर्थयात्रा का समापन 15 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा (रक्षा बंधन) के दिन होगा।

उन्होंने बताया कि रविवार को 873 यात्रियों ने के बाबा बफार्नी के दर्शन किये। रात्रि विश्राम के बाद आज सुबह से अब तक विभिन्न मार्गाें से 1500 यात्रियों एवं श्रद्धालुओं ने शिव हिमलिंग के दर्शन किये। इसके अलावा विभिन्न जत्थे पवित्र अमरनाथ गुफा की ओर रवाना हो चुके हैं तथा शाम तक और यात्रियों के भी पवित्र गुफा में पहुंचने की उम्मीद है।

इस बीच साधुओं एवं साध्वियों समेत श्रद्धालुओं का नया जत्था जम्मू के भगवती नगर से मध्य कश्मीर के गंदेरबल जिले में स्थित बालटाल तथा अनंतनाग के नुनवान पहलगाम स्थित आधार शिविरों के लिए अलग-अलग मार्गाें से रवाना हुआ।

‘हर हर महादेव’ और ‘बम बम भोले’ के जयकारों के साथ महिलाओं, बच्चों और साधुओं सहित तीर्थयात्रियों का नया जत्था नुनवान पहलगाम आधार शिविर से पारंपरिक यात्रा मार्ग पर वाहनों के अंतिम पड़ाव स्थल चंदनवारी के लिए रवाना हुआ। चंदनवारी सहित विभिन्न स्टेशनों पर रात्रि ठहराव करने वाले तीर्थयात्री आज सुबह अगले शिविरों के लिए रवाना हुए।

उन्होंने कहा कि बालटाल आधार शिविर से तीर्थयात्रियों के नया जत्था आज सुबह तड़के पवित्र गुफा के लिए रवाना हो गया। उन्होंने कहा कि महिलाओं, बच्चों और साधुओं सहित तीर्थयात्रियों का यह जत्था पैदल दूरी तय करने के बाद पवित्र गुफा में पहुंचेगा।

इस बीच सदियों पुरानी परंपरा के मुताबिक ‘भूमिपूजन’, ‘नवग्रह पूजन’ और ‘ध्वजारोहण’ ( जो भगवान शिव से जुड़ी पवित्र ‘छड़ी मुबारक’ की वार्षिक पूजा से जुड़े हुए हैं) के लिए ‘अषाढ़ पूर्णिमा’ के मौके पर मंगलवार को पहलगाम में समारोह का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं।

इस बीच हेलिकॉप्टर सेवा भी दोनों ओर से सामान्य रूप से चल रही है। उन्होंने कहा कि अधिकतर तीर्थयात्री बालटाल मार्ग से लौट रहे हैं, जिसमें पहलगाम के रास्ते तीर्थयात्रा करने वाले तीर्थयात्री भी शामिल हैं। कुछ तीर्थयात्री घर जाने से पहले गुलमर्ग, सोनमर्ग और पहलगाम सहित डल झील और अन्य पर्यटन स्थलों की यात्रा का भी आनंद उठा रहे हैं।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − 3 =