जो अज्ञानता मिटाए वही नारदः इंद्रेश कुमार

जयपुर (विसंकें)। आद्य पत्रकार देवर्षि नारद जयंती पर पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन बुधवार को यूपी की राजधानी लखनऊ में विश्व संवाद केंद्र में किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य इंद्रेश कुमार ने कहा कि जो अज्ञानता मिटा दे वह नारद मुनि है। इन्द्रेश जी ने बताया कि 21 अक्टूबर 1943 को सुभाष चन्द्र बोस ने आजाद हिन्द फौज के सर्वोच्च सेनापति की हैसियत से स्वतन्त्र भारत की अस्थायी सरकार बनाई थी। उसे जर्मनी, जापान, फिलीपींस, कोरिया, चीन, इटली, मान्चुको और आयरलैंड ने मान्यता भी दी थी। जापान ने अंडमान और निकोबार द्वीप सुभाष चन्द्र बोस को दिए थे। सुभाष चन्द्र बोस ने उन द्वीपों का नया नामकरण किया। इसलिए हकीकत में स्वतंत्र भारत की नींव तो 21 अक्टूबर 1943 में रख दी गई थी। ऐसे में इस साल उसका 75वां जश्न राष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाना चाहिए। समारोह के मुख्य अतिथि राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय कुलपति प्रोफेसर कामेश्वरनाथ सिंह रहे। इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार मनीष शर्मा, कुमार अभिषेक, ईशा जैन और फोटो जर्नलिस्ट सूरज पाल को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता नरेन्द्र भदौरिया ने की। कार्यक्रम की प्रस्तावना डॉ. अशोक दुबे ने रखी वहीं कार्यक्रम का संचालन अशोक सिन्हा ने किया।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 3 =