नवयुवकों में आजादी की अलख जगाई थी मदन लाल धींगरा ने

जयपुर। पाथेय कण संस्थान एवं भारतीय क्रांतिकारी स्मृति संस्थान द्वारा शनिवार ,दिनांक 1 सितम्बर, 2018 को महान् क्रांतिकारी श्री मदन लाल धींगरा पर एक कार्यक्रम का आयोजन पाथेय भवन के पत्रकार परिषद् कक्ष में किया गया । इस कार्यक्रम की रूपरेखा डॉ. राजेश रावत ने रखी।

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ. सुभाष कौशिक, सह निदेशक, स्कूल शिक्षा परिषद थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. पुरुषोत्तम चतुर्वेदी, कुलाधिपति हरियाणा केन्द्रीय विश्‍वविद्यालय, हरियाणा ने की। इस अवसर पर श्री कन्हैयालाल चतुर्वेदी, प्रधान संपादक पाथेय कण,डॉ. राजेश रावत, सचिव, भारतीय क्रांतिकारी स्मृति संस्थान एवं संस्थान के प्रचार सचिव श्री मनोज गर्ग एवं  सदस्य  डॉ.मुकेश चन्द शर्मा, श्री कौशल रावत ने भी शिरकत की।

कार्यक्रम का प्रारम्भ माँ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन एवं मदन लाल धींगरा के चित्र पर पुष्पार्चन से हुआ। इस अवसर पर दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी को दो मिनट का मौन रख कर श्रद्धांजलि प्रदान की गई।

अपने उद्बोधन में डा. सुभाष कौशिक ने अमर शहीद मदन लाल धींगरा के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला उनके जीवन से सम्बन्धित तथ्यों एवं घटनाओं का ब्यौरा प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि मदन लाल धींगरा सत्ता की विसंगतियों एवं समस्याओं  को समझकर उन्हें दूर करने का प्रयास करने वाले क्रांतिकारी थे।  वे महान् क्रांतिकारी श्री विनायक दामोदर सावरकर से बहुत अधिक प्रभावित थे। उन्होंने देश के नवयुवकों में आजादी की अलख जगाई एवं देश रक्षार्थ अपने प्राणों का बलिदान कर दिया।

अध्यक्षीय उद्बोधन में डॉ. पुरुषोत्तम चतुर्वेदी ने कहा कि ऐसे कार्यक्रम शैक्षणिक संस्थाओं में आयोजित होने चाहिए जिससे वर्तमान पीढ़ी हमारे अमर शहीदों एवं क्रांतिकारियों के विषय में जानें एवं उनसे प्रेरणा प्राप्त कर, देश निर्माण में अग्रसर हों। कार्यक्रम के अन्त में श्री कन्हैया लाल चतुर्वेदी ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ.रीतेश जैन ने किया।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + 14 =