यूरोप से आये रोमा लोगों ने दी शानदार प्रस्तुतियां

—गाडिया लोहार लडकियों b13b6d0c-6931-43da-9e67-28a976d2c326की प्रस्तुतियां देख अभिभूत हुये रोमा लोग

जयपुर, 16 फरवरी। अन्तर—राष्टीय सहयोग परिषद, भारत की ओर से मंगलवार को जयपुर स्थित बिडला सभागार में ‘सांस्कृतिक कार्यक्रम’ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि राजस्थान की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे थी। कार्यक्रम में राजस्थान भाजपा अध्यक्ष श्री अशोक परनामी भी उपस्थित थे।
कार्यक्रम की शु रुआत श्री अशोक परनामी ने दीप—प्रज्वलित कर की। परिषद के पदाधिकारियों द्वारा आगंतुकों का स्वागत किया गया।
इसके बाद यूरोप से आये रोमा लोगों ने मंच पर मनमोहक प्रस्तुतियां दी। वे अपने स्थानीय गीतों की धुनों पर अलग—अलग प्रस्तुतियां दे रहे थे। इन प्रस्तुतियों ने उपस्थित लोगों का मनमोह लिया। रोमा लोगों की प्रस्तुतियों ने जयपुरवासियों की खूब तालियां बटोरी।
इसके बाद राजस्थान की गाडिया लोहार बालिकाओं ने रंगारंग प्रस्तुतियां दी। नन्हीं—नन्हीं लड.कियों ने राजस्थान गीतों पर नृत्य किया जिस पर उपस्थित दर्शक झूम उठे। राजस्थानी पौशाक में राजस्थान गीतों पर नृत्य करते देख रोमा लोग प्रफुल्ल्ति हो उठे। उन्होंने इन यादों को अपने कैमरे में कैद किया। आर्ट आॅफ लिविंग संस्था के जुडे. कार्यकर्ताओं ने ‘गोविन्द हरे गोपाल हरे…’ सहित अनेक भजन बोल वातावरण को भक्तिमय कर दिया। इसके बाद मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कार्यक्रम को संबोधित किया। अन्त में परिषद द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया। रा.स्व.संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य श्री हस्तीमल जी, राजस्थान क्षेत्र के संघचालक श्री भगवती प्रसाद जी व राजस्थान क्षेत्र प्रचारक श्री दुर्गादास जी भी कार्यक्रम में शामिल हुये।

कार्यक्रम आयो​जन समिति के सदस्य एस.एन.माथुर ने बताया कि जो रोमा लोग भारत आये है उनके पुरखें राजस्थान स्थित चित्तौड.गढ के आस—पास के रहनेवाले बंजारा है। यहां के बंजारे 1500 वर्ष पूर्व तक व्यापार के लिए सिल्क रूट होते हुये यूरोप के देशो में जाया करते थे। बीच के लम्बे कालखंड में भारत पर विदेशियों के आक्रमण हुये जिसके कारण भारतीय व्यापारियों को यूरोप में ही बसना पडा। वे यूरोप और अमरीका में रहने लगे। इन लोगों की संख्या वर्तमान में करीब दो करोड. हो चुकी है। इन लोगों को आज “रोमाँ” या जिप्सी नामो से पहचाना जाता हैं । ये लोग राजस्थान को अपनी मातृभूमि मानते है।
भारत सरकार के विदेश मंत्रालय के ​आमंत्रण पर चालीस सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल भारत की यात्रा पर आया है।

                  2f2952a8-f2bb-43e0-93b5-53fd7fd33762

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − nineteen =