सुधीर फडके जी के गीतों में जीवन का स्पर्श था – डॉ. मोहन भागवत जी

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि सुधीर फडके जी ने जिस तरह अपना जीवन व्यतीत किया. जो तेजस्विता, भावनाओं की उत्कटता उन्होंने अपने जीवन में पाई उसी का स्पर्श उनके गीतों को हुआ है. उदात्त, उत्कट मूल्यों को साथ लेकर और सत्यता का साथ बिना छोड़े उन्होंने अपना जीवनकाल पूर्ण किया. उनके गीतों मे पाई जाने वाली सुगंध उनकी उत्कृष्टता के लिये की गई तपश्‍चर्या का प्रतीक है. उनकी उत्कृष्टता के पीछे जो तपश्‍चर्या थी, वह आने वाली पीढ़ियों में संक्रमित होना आवश्यक है.

सरसंघचालक जी मराठी व हिन्दी गीतों के सुप्रसिद्ध गायक-संगीत निर्देशक और प्रखर राष्ट्रभक्त सुधीर फडके उपाख्य बाबूजी के जन्मशताब्दी वर्ष पर आयोजित कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे. कार्यक्रम में सरसंघचालक जी ने बाबूजी को आदरांजली अर्पित की. कार्यक्रम में सरसंघचालक जी मुख्य अतिथि तथा उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक जी अध्यक्ष के रूप में उपस्थित रहे.

राम नाईक जी ने कहा कि हमारा स्नेह जुड़ने का कारण थे, ग.दि. माडगूलकर. समविचारी होने के कारण हमारा यह स्नेह निरंतर रहा. वे मुझे अपने छोटे भाई समान मानते थे. गोवा मुक्ति संग्राम, दादरा-नगर हवेली मुक्ति संग्राम में उनका सहभाग अनन्य साधारण था. अटल जी के कार्यकाल में उन्हें स्वातंत्र्य सेनानी की उपाधि देकर सराहा गया.

नागालैंड के राज्यपाल पद्मनाभ आचार्य जी ने कहा कि कलाक्षेत्र में कार्यरत होने के बावजूद भी सुधीर फडके ने अपना सामाजिक उत्तरदायित्व पूरा किया. उनके मन में राष्ट्र के प्रति सम्मान और आदर था.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देंवेंद्र फडणवीस जी ने वीडियो संदेश भेजकर आदरांजली अर्पित की. श्रीधर फडके जी ने कहा कि इस जन्मशताब्दी वर्ष में सुधीर फडके के कार्य पर आधारित अनेक कार्यक्रम आयोजित होंगे. बाबूजी के चरित्र पर एक वेबसाईट और बायोपिक का भी निर्माण किया जा रहा है.

ज्येष्ठ संगीत निर्देशक-गायक बाबूजी के सुपुत्र श्रीधर फडके, श्रीनिवास वीरकर और जीवनगाणी के प्रसाद सहाडकर के सहकार्य से कार्यक्रम का आयोजन रवींद्र नाट्यमंदिर में किया गया. नागालँड के राज्यपाल पद्मनाभ आचार्य, महाराष्ट्र राज्य सांस्कृतिक मंत्री विनोद तावडे, भाजपा के मुंबई प्रवक्ता आशीष शेलार और ज्येष्ठ गायक सुरेश वाडकर कार्यक्रम में मुख्यतः उपस्थित रहे. मराठी-हिन्दी मनोरंजन क्षेत्र के जाने माने कलाकर, अनेक मान्यगण कार्यक्रम में उपस्थित थे.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + twenty =