30 साल बाद, कश्मीरी पंडित रोशनलाल बावा ने श्रीनगर में फिर से शुरू किया कारोबार

a16c376c-03ab-466b-a415-5b77543e857eजयपुर (विसंकें)। 29 साल के अंतराल के बाद कश्मीरी पंडित रोशनलाल बावा जिन्हें अक्टूबर 1990 में एक हमले के पश्चात कश्मीर छोड़ना पड़ा था जब 3 दशक बाद श्रीनगर के ज़ैना कदल बाजार में अपनी थोक की किराने की दुकान वापस शुरू करने पहुंचे तो पहले दिन ही, पड़ोसी दुकानदारों और आसपास के व्यापारिक प्रतिष्ठानों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गए। रोशन ने बताया कि “यहां लौटना मेरी आखिरी इच्छा थी। मैं भगवान का शुक्रगुजार हूं कि मेरी यह इच्छा अब पूरी हो गई है”।

स्थानीय बाजार समिति के सदस्यों ने रोशन की दुकान का दौरा किया और पारंपरिक पगड़ी के साथ उन्हें और उनके बेटे को सम्मानित किया। रोशन के बगल में एक किराने की दुकान चलाने वाले मुहम्मद लतीफ का कबना था कि “यह अच्छी बात है और सभी लोग यहां खुश हैं। कश्मीरी पंडित हमारे भाई हैं और हमारे और उनके बीच कोई अंतर नहीं है”। हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब रोशन घाटी लौटे हैं। 1990 के बाद से, वह हर साल घाटी में कुछ समय बिताते रहे हैं। उनके बेटे संदीप, एक डॉक्टर और स्थानीय राजनेता हैं, जो श्रीनगर के करन नगर इलाके में रहते हैं।
रोशन याद करते हुए कहते हैं, कि उनके परिवार ने घाटी छोड़ने का फैसला क्यों किया “अक्टूबर 1990 में, एक व्यक्ति मेरी दुकान पर आया और मुझ पर गोलीबारी की। चार गोलियां लगीं, मेरे पेट में तीन और कंधे में एक”। उन्होंने कहा कि उनका परिवार पहले जम्मू और फिर दिल्ली में स्थानांतरित हो गया। “मैं वहां अच्छा व्यवसाय कर रहा था। लेकिन मैंने कश्मीर को प्राथमिकता दी क्योंकि मैं घाटी में फिर से बसना चाहता था। ”
रोशन का मानना है कि उनके जैसे और भी हैं जो घाटी लौटना चाहते हैं। “यहाँ कोई डर नहीं है। देखें कि मैंने एक दुकान स्थापित की है जिसे बहुत संवेदनशील क्षेत्र माना जाता है। मुझसे मिलने आज स्थानीय लोग आए। शायद यह उन्हें (पंडितों को) घर लौटने के लिए प्रेरित करेगा।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eleven − ten =