राममंदिर निर्माण के लिए महायज्ञ

जयपुर, 21 अप्रैल (विसंकें)। मनोरमा गंगा के तट पर स्थित पावन मखौड़ा धाम में सात दिवसीय श्रीराम महायज्ञ की शुरुआत हुई। यह लगातार 13वां वर्ष है, जब दशरथ महल बड़ास्थान के महंत वदुगाद्याचार्य स्वामी देवेंद्रप्रसादाचार्य की अध्यक्षता में मखौड़ा धाम में श्रीराम महायज्ञ शुरू हुआ है। संतों के जत्थे के साथ मखौड़ा धाम के लिए रवाना होने से पूर्व वदुगाद्याचार्य ने बताया कि पवित्र मखभूमि में किया गया यज्ञ जाया नहीं जाता। त्रेता में महाराज दशरथ ने यहीं पुत्रेष्टि यज्ञ किया तो उन्हें भगवान राम सहित भरत, लक्ष्मण एवं शत्रुघ्न जैसे तेजस्वी पुत्र प्राप्त हुए। इसी विरासत के अनुरूप हम भी यहां गत 13 वर्षों से यज्ञ कर रहे हैं और यज्ञ का उद्देश्य रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण, रामराज्य की स्थापना तथा देश-दुनिया में सुख-समृद्धि की प्रतिष्ठापना है। इस मौके पर अयोध्या संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैयादास रामायणी ने कहा कि 14 वर्ष के वनवास के बाद रामराज्य की स्थापना हुई थी और मखौड़ा धाम में भी राम महायज्ञ होते अगले वर्ष 14 वर्ष हो जाएगा और इसी के साथ रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के साथ रामराज्य की संकल्पना प्रशस्त होगी। पौराणिक मान्यता के अनुसार त्रेता में यहीं राजा दशरथ का महल था और इसी विरासत के अनुरूप दशरथमहल पीठ में मखौड़ा धाम क अलावा भरतकुंड स्थित रामजानकी मंदिर निहित है, जहां राम वनवास के दौरान भरत ने तपस्या की थी।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × two =