विश्व होगा योगमय

—अन्तर्राष्ट्रीय योग Thirumazhisai (1)दिवस का दूसरा साल
—21 जून को होंगे सामूहिक योगाभ्यास कार्यक्रम
विसंकेजयपुर
जयपुर, 20 जून। भारत सहित विश्व के करीब दो सौ देशों में 21 जून को ‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस’ मनाया जाएगा। अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की दूसरी वर्षगांठ पर जगह—जगह सामूहिक योगाभ्यास कार्यक्रम आयोजित किया जाएंगे जिसमें स्वस्थ रहने के लिए उपयोगी आसन, प्राणायम आदि का अभ्यास कराया जाएगा। कार्यक्रम की तैयारियां उत्साह से की जा रही है।
राजस्थान में सरकारी विभागों के अलावा सामाजिक संस्थाओं, संगठनों एवं समितियों की ओर से सामूहिक योगाभ्यास कार्यक्रम आयोजित होंगे। योग दिवस न केवल सरकार का बल्कि समाज का भी कार्यक्रम बनता जा रहा है। राज्य के जिला,ब्लॉक और ग्राम पंचायत स्तर पर प्रात: साढे छह बजे से कार्यक्रम होंगे।
जयपुर स्थित सवाई मानसिंह स्टेडियम में मंगलवार को प्रात: 6:30 बजे राज्य स्तरीय मुख्य समारोह आयोजित होगा। इस कार्यक्रम में हजारों की संख्या में जयपुरवासी हिस्सा लेंगे और सामूहिक योगा का अभ्यास करेंगे।
योग दिवस समारोह समिति, टोंक रोड की ओर से टोंक रोड स्थित जमुना गार्डन में प्रात: 6:15 बजे योग दिवस कार्यक्रम मनाया जाएगा।
इसी प्रकार बिडला सभागार में भी प्रात: 10 बजे योग कार्यक्रम रखा गया है जिसमें युवकों की ओर से मंच पर विभिन्न आसनों का प्रदर्शन किया जाएगा। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता रा.स्वयंसेवक संघ के जयपुर प्रांत प्रचारक श्री निम्बाराम जी होंगे।

विश्व ने स्वीकारा हिन्दू विचार
27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 69 वें सत्र को संबोधित करते हुए भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व समुदाय से अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का आह्वान किया था। इस विषय पर बोलते हुए श्री मोदी ने कहा था कि ‘योग प्राचीन भारतीय परम्परा एवं संस्कृति की अमूल्य देन है। योग अभ्यास शरीर एवं मन, विचार एवं कर्म, आत्मसंयम एवं पूर्णता की एकात्मकता तथा मानव एवं प्रकृति के बीच सामंजस्य स्थापित करता है। यह स्वास्थ्य एवं कल्याण का पूर्णतावादी दृष्टिकोण है। योग मात्र व्यायाम नहीं है बल्कि स्वयं के साथ, विश्व और प्रकृति के साथ एकत्व खोजने का भाव है। योग हमारी जीवन शैली में परिवर्तन से शरीर में होने वाले बदलावों को सहन करने में सहायक हो सकता है। आइए हम सब मिलकर योग को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में स्वीकार करने की दिशा में कार्य करें।’ इस औजस्वी उद्बोधन के बाद 11 दिसम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 193 सदस्यों ने रिकॉर्ड 177 सह—समर्थक देशों के साथ 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का संकल्प सर्वसम्मति से अनुमोदित किया। विश्व ने भारतीय संस्कृति का सर्वमंगलकारी यह विचार स्वीकार किया।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 9 =