शिक्षा की गुणवत्ता के लिए प्रयत्नशील रहना ही शिक्षक का नैतिक दायित्व

mahendra kapur

जोधपुर. एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज में रविवार को विश्वविद्यालय महाविद्यालय शिक्षक मंच एवं रुक्टा(रा.) के संयुक्त तत्वावधान में दीपावली स्नेह मिलन समोराह का आयोजित किया. इस अवसर पर अखिल भारतीय शैक्षिक महासंघ के संगठन मंत्री श्री महेन्द्र कपूर तथा वाणिज्य संकाय के अधिष्ठाता प्रो.ललित गुप्ता का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ।इस अवसर पर श्री कपूर ने शैक्षिक महासंघ के स्वरुप पर प्रकाश डालते हुए शिक्षकहित एवं सौहार्द के लिए शिक्षकों से सहयोग का आह्वान किया।
उन्होंने कहा कि विकास में बाधक बनने से संगठन की हानि होती है। शैक्षिक महासंघ राष्ट्र के हित में शिक्षा, शिक्षा के हित में शिक्षक और शिक्षक के हित में समाज ध्येय को लक्ष्य बनाकर शिक्षा, शिक्षक एवं समाज तीनों को साथ लेकर चलता है. समाज हित के लिए शिक्षा की गुणवत्ता, सशक्तता एवं उत्कृष्टता आवश्यक है। शिक्षा की गुणवत्ता के लिए निरन्तर प्रयत्नशील रहना ही शिक्षक का नैतिक दायित्व है। इस नैतिक दायित्व को पूरा किये बिना शिक्षक समाज में अपना उचित स्थान प्राप्त नहीं कर सकता। विभिन्न माध्यमों का प्रयोग करते हुए चरित्रवान, विद्वान लोक कल्याण को समर्पित विद्यार्थी व नागरिक तैयार करना।
संगठन के सदस्यों को निष्ठापूर्वक शिक्षा एवं समाज हित में अधिक से अधिक कार्य करने का अवसर मिले, तभी सम्पूर्ण देश में संगठन को गतिमान बनाया जा सकता है। इसी भाव को ध्यान में रखते हुए शैक्षिक महासंघ कर्तव्य बोध, गुरुवन्दन एवं सम-सामयिक विषयों से सम्बद्ध जनजागरण के कार्यक्रम प्रतिवर्ष ब्लॉक एवं राष्ट्र स्तर पर निरन्तर आयोजित कर रहा हैं
उन्होंने शिक्षकों को समाज में जीवन्तता एवं निष्ठा से कार्य करने के लिए प्रेरित किया.
जोधपुर इकाई अध्यक्ष प्रो. ललित गुप्ता ने धन्यवाद ज्ञापन किया.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 − 6 =